۱۰ اسفند ۱۳۹۹ | Feb 28, 2021
بالصور/ لقاء قائد الثورة الإسلامية المتلفز مع أهالي محافظة أذربيجان الشرقية

ईरान के परमाणु समझौते का उल्लेख करते हुए, इस्लामी क्रांति के सर्वोच्च नेता आयतुल्लाह खामेनेई ने कहा कि इस बार कार्रवाई की आवश्यकता है, इस्लामी गणतंत्र ईरान बातो और वचनो से संतुष्ट नहीं होगा।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, ईरान के परमाणु समझौते का उल्लेख करते हुए, इस्लामी क्रांति के सर्वोच्च नेता आयतुल्लाह खामेनेई ने कहा कि इस बार कार्रवाई की आवश्यकता है, इस्लामी गणतंत्र ईरान बातो और वचनो से संतुष्ट नहीं होगा।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, ईरान की इस्लामी क्रांति के नेता आयतुल्लाह खामेनेई ने तबरेज़ शहर के लोगों की ऐतिहासिक क़याम की वर्षगाठ पर अपने भाषण में कहा कि दूसरा पक्ष परमाणु समझौते के संबंध मे बोल वचन कर रहा है। मैं केवल एक ही बात कहूंगा: हमने बहुत बोल बचन सुने हैं, जिन्हें न केवल नजरअंदाज किया गया बल्कि उनके खिलाफ कार्रवाई भी की गई। बात करने का कोई मतलब नहीं है। इस बार केवल अमल और अमल करें! यदि इस्लामी गणतंत्र दूसरे पक्ष की कार्रवाई को देखता है, तो वह भी ऐसा ही करेगा।

बड़ी शक्तियां आम्भ से ही इस्लामी क्रांति से ईर्ष्या करने लगीं। दुश्मनी का कारण क्या था? ऐसा इसलिए था क्योंकि इस्लामी व्यवस्था ने विश्व-शासित औपनिवेशिक प्रणाली (जिसमें कुछ औपनिवेशिक शक्तियाँ और कुछ उपनिवेश राष्ट्र शामिल थे) को अस्वीकार कर दिया था यह हेग्मोनिक प्रणाली की जीवनदायिनी थी।

हेग्मेनिक सिस्टम ने क्रांति के खिलाफ कार्रवाई के बहाने तलाशे है। कभी मानवाधिकार, कभी धार्मिक सरकार की छवि बिगाड़ना, कभी परमाणु मुद्दे, कभी क्षेत्रीय बहस। ये बहाने हैं। तथ्य यह है कि इस्लामिक गणराज्य हेग्मोनिक प्रणाली में उनके साथ सहयोग करने के लिए तैयार नहीं है।

इस्लामी क्रांति ने आकर देश की प्रशासनिक व्यवस्था को एक सत्तावादी, शाही और व्यक्तिगत प्रणाली से बदलकर एक लोकतांत्रिक व्यवस्था बना दिया। आज, ईरानी राष्ट्र का भविष्य स्वयं लोगों के हाथों में है। जनता चुनती है।

इस्लामिक क्रांति ने ईरान को विज्ञान के क्षेत्र में एक पिछड़े देश से और विज्ञान के क्षेत्र में दस अग्रणी देशों में से एक और एक स्वतंत्र, मुक्त और गरिमामय देश के लिए एक परजीवी और महान शक्तियों का परजीवी देश बना दिया।

द्वितीय विश्व युद्ध में, ईरान कुछ ब्रिटिश और गैर-ब्रिटिश हमलों के समाने कुछ घंटे भी नही टिक सका। इस्लामी क्रांति के बाद आठ साल सद्दाम की आड़ में अमेरिका, सोवियत संघ, फ्रांस, ब्रिटेन, जर्मनी और अन्य देशो ने ईरान से युद्ध किया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
5 + 0 =