۸ تیر ۱۴۰۱ |۲۹ ذیقعدهٔ ۱۴۴۳ | Jun 29, 2022
क़ाइद-ए-मिल्लत-ए-जाफरया

हौज़ा / क़ाइद-ए-मिलत-ए जाफ़रया पाकिस्तान ने एक संदेश में कहा कि हज़रत इमाम मुहम्मद ताक़ी (अ.स.) ने जहा उम्मते मुसलेमा को कुरान की दिव्य आज्ञाओं, पैगंबर की जीवनी और इमामों की आज्ञाओ की और आकर्षित रखा वही प्रत्येक मैदान और हर क्षेत्र मे  उन्होंने उम्मत का मार्गदर्शन किया।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, क़ाइद-ए-मिलत-ए-जाफ़रया पाकिस्तान अल्लामा सैयद साजिद अली नक़वी ने 10 रजब नवें इमाम मुहम्मद तकी के जन्मदिन के अवसर पर कहा आपको आपके नाना और दादा के मिशन और शिक्षाओ छोटी अवधि के लिए आगे बढ़ने का अवसर मिला, लेकिन यह छोटी सी अवधि ने भी इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी है और सभी प्रकार की गंभीर स्थितियों में, इमामत के कर्तव्य को अत्यंत जिम्मेदारी, रणनीति और दूरदर्शिता के साथ निभाया। आशीर्वाद कई सदियों से बह रहा है। जिसकी बदौलत आज दुनिया पिछले कई शताब्दियों से इमामत के आशीर्वाद से लाभान्वित हो रही है।

अल्लामा साजिद नकवी ने कहा कि हज़रत इमाम मुहम्मद तक़ी (अ.स.) उम्मते मुसलेमा को कुरान की दिव्य आज्ञाओं, पैगंबर की जीवनी और इमामों की आज्ञाओ की और आकर्षित रखा वही प्रत्येक मैदान और हर क्षेत्र मे उन्होंने उम्मत का मार्गदर्शन किया। यह मार्गदर्शन न केवल उनकी मंशा के लिए, बल्कि आम मुसलमानों और उस समय के शासकों के लिए भी समान था। इसीलिए उन्होंने अपने पूर्वजों की तरह, अच्छे कामो को आगे बढ़ाने और बुराई को रोकने के लिए भविष्यद्वक्ता कर्तव्य निभाया। और इस मार्ग अनेक कठिनाईया सहन की। आपके पिता इमाम रज़ा अपने विरोधियों के उपहास के जवाब में कहते थे, "संतान का होना विश्व निर्माता की आज्ञा से है। जल्द ही मेरा खुदा मुझे संतान वाला करेंगे और मुझे एक ऐसा बेटा देगा जो इमामत का नेतृत्व करेंगा। वह इमामत का सच्चा वारिस होगा और जीव ईश्वर द्वारा निर्देशित होगा। ”

अल्लामा साजिद नकवी ने कहा कि जिस तरह से इमाम मुहम्मद तक़ी (अ.स.) ने मुस्लिम उम्माह को मार्गदर्शन प्रदान करने हेतु रणनीति तैयार की और जिस तरह से उन्होंने शासकों और धर्म विरोधी वर्गों के षड्यंत्रों का मुकाबला किया उसका कोई उदाहरण नही मिलता।

क़ाइद-ए-मिलत-ए जाफ़रया पाकिस्तान ने मुस्लिम उम्माह से हज़रत इमाम मुहम्मद ताक़ी के जीवन परिचय का अध्ययन करने और सच्चे अर्थों में इसका पालन करने का आग्रह किया ताकि प्रलय (क़यामत) के दिन प्रबुद्ध मार्ग पर चल सके। 

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
6 + 1 =