۲۸ مرداد ۱۴۰۱ |۲۱ محرم ۱۴۴۴ | Aug 19, 2022
مولانا تقی عباس رضوی

हौज़ा / सामाजिक बुराइयों की रोकथाम के लिए सरकार के साथ-साथ माता-पिता और धर्मगुरुओं की ज़िम्मेदारी है कि दहेज की माँग को रोकने और घरेलू हिंसा जैसी सामाजिक बुराइयों को दूर करने के लिए ठोस कदम ख़ासकर इस संबंध में जवानो का मार्गदर्शन और शीघ्र अदालती कार्रवाई एक सामूहिक ज़िम्मेदारी है, ।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, अहलेबैत (अ.स.) फाउंडेशन हिन्दुस्तान के उपाध्यक्ष, हुज्जतुल इस्लाम मौलाना तक़ी अब्बास रिज़वी ने कहा: कि आत्महत्या एक अपराध है और धैर्य का अपमान भी है। कुछ दिन पहले गुजरात के शहर अहमदाबाद की रहने वाली आयशा ने 25 फरवरी को दहेज की मांग और वैवाहिक विवादों से तंग आकर साबरमति नदी मे कूद कर आत्महत्या कर ली। 

आत्महत्या करने से पहले, आयशा ने अपने पति आरिफ खान को एक वीडियो भेजा था जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जो न केवल एक लड़की की असहायता की कहानी नही सुना रहा है, बल्कि आयशा जैसी अन्य नसीब जली ससुराल वालों के अत्याचारो की सताई हुई लड़कियो को अपने ही हाथो मौत के घाट उतारने का साहस बढ़ा रही है, जो एक सामूहिक अपराध है, हराम अधिनियम है और गंभीर सज़ा का कारण है।

सोशल मीडिया पर आयशा के वीडियो पर बड़ी संख्या में लोग प्रतिक्रिया दे रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि आयशा को अपने माता-पिता की बात सुननी चाहिए थी और कुछ लोग वीडियो देखने के बाद भी तनाव महसूस कर रहे हैं।

इस प्रतिक्रिया में, वीडियो की वायरलिटी एक और आत्मा के लिए दु:खत बन गई और आयशा के बाद, एक और आयशा जो सूरत की रहने वाली है, इस कहानी को दोहराने और तापसी नदी में कूदने की कोशिश की जिसे ऑटो चालक ने बचाया, जिसका वीडियो फेसबुक पर घूम रहा है!
हालाँकि, हमें यह समझने की आवश्यकता है कि बुराई का उल्लेख करना बुराई को बढ़ावा देने के लिए घातक है। सामाजिक बुराइयों को रोकने के लिए, सरकार के साथ-साथ माता-पिता और धर्मगुरुओं कि ज़िम्मेदारी है कि जो दहेज की मांग करते हैं उनके खिलाफ ठोस कदम उठाए जाएं।

सख्त कानून लागू करने से घरेलू हिंसा और आत्महत्या से प्रभावित महिलाओं की मदद करने जैसी घटनाओं को काफी हद तक रोका जा सकता है। इन जैसी अन्य बुराइयों को रोकने के लिए लोगों में धार्मिक जागरूकता पैदा करना और समाज में इस्लामी शिक्षाओं को बढ़ावा देने की आवश्यकता है।

इस्लाम लोगों से दुःख, और संकट के समय में धैर्य (सब्र) से काम लेने का आग्रह करता है, न कि तनाव, और निराश में खुद को आत्मसमर्पण करने का संदेश देता है!  आत्महत्या एक गंभीर पाप है: अल्लाह और उसके रसूल ने सख्ती से आत्महत्या करने से मना किया हैं। और जो लोग आत्महत्या करते हैं उन्हें नर्क वासी कहा जाता है।

अल्लाह के रसूल ने फरमाया: "जो कोई पहाड़ से गिरकर आत्महत्या करेगा, वह नर्क की आग में होगा और हमेशा के लिए उसमें निवास करेगा।और जो कोई भी लोहे के हथियार से आत्महत्या करता है, उसका हथियार उसके हाथ में होगा और नर्क में बार-बार उस हथियार से अपने पेट में मारेगा।

जबकि आत्महत्या विफलता, हार और अभाव की एक बदसूरत तस्वीर है, यह धार्मिक और सांसारिक सुख से हमेशा के लिए वंचित करता है।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
1 + 9 =