۲۷ مرداد ۱۴۰۱ |۲۰ محرم ۱۴۴۴ | Aug 18, 2022
مولوی سید ارشد مدنی دوباره رئیس جمعیت علمای هند منتخب شد

हौज़ा/ देश की मौजूदा स्थिति, कानून-व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति और मुसलमानों की शैक्षिक स्थिति पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए, जमीअतुल उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सैय्यद अरशद मदनी ने जामीया के छात्रवृत्ति की राशि 50लाख से बढ़ा कर एक करोड़ कर दी। उन्होंने जमीअतुल उलेमा-ए-हिंद की कार्य समिति की एक महत्वपूर्ण बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह घोषणा की हैं।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार,जमीया द्वारा जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार, केंद्रीय कार्य समिति ने मौलाना अरशद मदनी को अगले कार्यकाल के लिए जमीया की कार्य समिति की अरशद मदनी के नाम की घोषणा की हैं। मौलाना अरशद मदनी ने देश में बिगड़ती कानून-व्यवस्था और मुसलमानों के शैक्षिक अनुपात पर गहरी चिंता व्यक्त की हैं।और इसके लिए छात्रवृत्ति की आवश्यकता और महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हमारे छोटे से प्रयास से कई बुद्धिमानों का भविष्य और मेहनती बच्चे जो वित्तीय कठिनाइयों के कारण अपनी शिक्षा जारी रखने में गंभीर कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं, उन्हें कुछ हद तक मदद मिल सकती हैं।

उन्होंने कहा कि देश भर में अब जिस तरह के धार्मिक और वैचारिक टकराव शुरू हो गए हैं, उनका मुकाबला किसी हथियार या तकनीक से नहीं किया जा सकता है। उन्हें इस वैचारिक युद्ध में विरोधियों को हराने के लिए अपने ज्ञान और चेतना का उपयोग करना चाहिए और सफलता और समृद्धि के मील के पत्थर तक पहुंचना चाहिए। जिस तक हमारी पहुंच राजनीतिक रूप से कठिन से कठिन बना दी गयी हैं।

मौलाना मदनी ने कहा कि आज़ादी के बाद आने वाली तमाम सरकारों ने एक निर्धारित नीति के तहत मुसलमानों को शिक्षा के क्षेत्र से बाहर रखा था। सच्चर कमेंटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि शिक्षा के मैदान में मुसलमान दलितों से पीछे है मौलाना मदनी ने सवाल किया कि यह दु:खद स्थिति क्यों पैदा हुई। और इसके क्या कारण हो सकते हैं?

इस पर गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है, लेकिन यह भी एक तय बात है कि मुसलमान जानबूझकर शिक्षा से पीछे नहीं हटे हैं। क्योंकि अगर उन्हें शिक्षा में कोई दिलचस्पी नहीं थी, तो वे मदरसों की स्थापना क्यों करेंगे। दु:खद सच्चाई यह है कि आज़ादी के बाद सत्ता में आई सभी सरकार मुसलमानों को शैक्षणिक पिछड़ेपन की स्थिति में रखती हैं। मुसलमानों को शिक्षा के राष्ट्रीय मुख्यधारा से सभी प्रकार की चालों और बाधाओं के माध्यम से अलग करने का प्रयास किया गया है, जिसके परिणाम स्वरूप शिक्षा में मुस्लिम दलितों से पिछड़ गए हैं।

मौलाना मदनी ने कहा कि हम एक बार फिर से दोहराना चाहेंगे कि मुसलमान अपने बच्चों को पेट पर पत्थर बांधकर उनको उच्च शिक्षा दिलवाये। और हमारी युवा पीढ़ी को शिक्षा के जीवन में सफलता का मुख्य हथियार बनाएं। हमें ऐसे स्कूलों और कॉलेजों की सख्त जरूरत है, जिनमें धार्मिक पहचान वाले हमारे बच्चे बिना किसी अड़चन या भेदभाव के उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकें।

उन्होंने मुसलमानों से अपील की है कि आज मुसलमान अन्य चीजों पर खर्च करने में रुचि रखते हैं लेकिन वे शिक्षा पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। यह अच्छी तरह से समझना चाहिए कि देश की वर्तमान स्थिति क्या हो सकती है। और हम शिक्षा के ज़रिए हालात का मुकाबला कर सकते हैं

मौलाना मदनी ने कहा कि जमीअतुल उलेमा-ए-हिंद का दायरा बहुत बड़ा है और यह हर मोर्चे पर सफलतापूर्वक काम कर रहा है, इसलिए जब यह स्कूलों और मदरसों की स्थापना कर रहा है, तो इसने अब शिक्षा पर जोर देना शुरू कर दिया है जो रोजगार प्रदान करता है। तकनीकी और प्रतियोगी शिक्षा ताकि इस तरह की शिक्षा के साथ बाहर जाने वाले बच्चों को तत्काल रोजगार  मिल सके, और वे खुद को कमज़ोर महसूस करने से भी बचा सकें।

जमीयतुल उलेमा-ए-हिंद आज़ादी के बाद से शिक्षा के बारे में बहुत संवेदनशील है, इसलिए इसके नेताओं ने 1954 में धार्मिक शिक्षा बोर्ड का गठन किया, जिसका मुख्य उद्देश्य मुसलमानों में शैक्षिक जागरूकता बढ़ाना और देश भर में स्कूलों और मदरसों की स्थापना करना था। हम पूरे देश में स्कूलों और मदरसों का एक नेटवर्क देख रहे हैं। यह उनके प्रयासों का परिणाम है। लेकिन अब हमें इस संबंध में एक नया अभियान शुरू करना होगा। इसीलिए हमने तय किया है कि जमीयतुल उलेमा-ए-हिंद मुसलमानों के बीच शिक्षा को लोकप्रिय बनाने के लिए अपने मंच से एक  अभियान शुरू करेगा और जहां भी आवश्यकता होगी वहां शिक्षण संस्थानों की स्थापना करेगा और राष्ट्र के सभी जिम्मेदार संस्थानों को आकर्षित करने के लिए हर संभव प्रयास करेगा। आज के हालात में हमें अच्छे मदरसों की आवश्यकता है।

जिनके माता-पिता शिक्षा का खर्च उठाने में असमर्थ हैं, उन्होंने कहा कि राष्ट्रों के जीवन में क्रांतियां घर पर नहीं आती हैं, लेकिन इसके लिए एक व्यावहारिक प्रयास किया जाता है और बलिदान करना पड़ता है। अंत में, मौलाना मदनी ने कहा कि देश में वर्तमान स्थिति अल्पसंख्यकों, विशेष रूप से मुस्लिम अल्पसंख्यक और दलितों के लिए बेहद खतरनाक हो गई है। खतरनाक दृष्टिकोण लिया जा रहा है।

मौलाना मदनी ने कहा कि यह देश सभी का है, भारत हमेशा से गंगा-जमुनी तहज़िब का मलीक रहा हैं। इस रास्ते पर चलकर ही देश का विकास संभव है। अंत में, उन्होंने सभी मुसलमानों से प्रेम, शांति और एकता का संदेशवाहक बनने की अपील की, वे जहाँ भी हों, नफरत का मुकाबला नहीं किया जा सकता, याद रखें कि नफरत को केवल प्यार से हराया जा सकता है, कार्य समिति ने कहा। जमीयतुल उलेमा-ए-हिंद के निर्माण कार्यक्रम, विशेष रूप से समाज सुधार कार्यक्रम को चलाने के लिए, जो समाज में व्याप्त बुराइयों को रोकने के लिए एक आंदोलन के रूप में है।

जमीअतुल उलेमा-ए-हिंद पहले दिन से स्कूलों और मदरसों की स्थापना पर ध्यान दे रहा है। इस प्रवृत्ति को जारी रखते हुए, इस वर्ष 50 लाख रुपये से छात्रवृत्ति के लिए 1करोड़ रुपये की राशि घोषित की गई है, जिसके लिए देश भर से लगभग 600 छात्रों का चयन किया गया है, जिनमें से अब तक लगभग 500 छात्रों का चयन किया गया है। वजीफा जारी कर दिया गया है, यह अभी भी चल रहा है।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि जमीया की सदस्यता हर दो साल में आयोजित की जाती है। पिछले कार्यकाल में जमीयह के सदस्यों की संख्या लगभग एक करोड़ 15 लाख थी जबकि इस वर्ष इस संख्या में वृद्धि की प्रबल संभावना है। जमीअतुल उलेमा-ए-हिंद की कार्य समिति ने आज से 31 जुलाई तक इस पद की सदस्यता की घोषणा की है। बैठक मैं बहुत सारे अहले  सुन्नत के विद्वानो ने भाग लिया।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
6 + 4 =