۱۱ تیر ۱۴۰۱ |۲ ذیحجهٔ ۱۴۴۳ | Jul 2, 2022
आंध्रा प्रदेश मे विरोध प्रदर्शन

हौज़ा / आंध्र प्रदेश शिया उलेमा बोर्ड के अध्यक्ष और सरकारी शिया क़ाज़ी मौलाना सैयद अब्बास बाक़री ने कहा कि इस्लामी जगत को इस समय खुद को कुरान और अहलेबैत (अ.स.) की शिक्षाओ से सजाना चाहिए। और अपनी सफ़ो मे नज़म व ज़बत बाकी रखते हुए इस प्रकार घृणा फैलाने का डट कर मुक़ाबला करें।

हौज़ा न्यूजं एजेंसी की रिपोर्ट अनुसार,  दक्षिण भारत आंध्र प्रदेश के पूर्वी जिला गोदावरी नगर मे आज रविवार की सुबह 14 मार्च उत्तर प्रदेश के शिया वक़्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन गुस्ताख वसीम रिजवी के पवित्र कुरान के खिलाफ अपमानजनक बयान के विरोध में स्थाई विद्वानो और मोमेनीन ने जबरदस्त विरोध प्रदर्शन किया।  जिसमें शिया उलेमा और आंध्र प्रदेश बोर्ड के अध्यक्ष शिया क़ाज़ी मौलाना सैयद अब्बास बाक़िरी ने वसीम के भड़काऊ बयान की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि इस्लामी जगत को इस समय खुद को कुरान और अहलेबैत (अ.स.) की शिक्षाओ से सजाना चाहिए। और अपनी सफ़ो मे नज़म व ज़बत बाकी रखते हुए इस प्रकार घृणा फैलाने का डट कर मुक़ाबला करें।

उन्होंने आगे कहा कि जानबूझकर या अनजाने में वसीम रिजवी जैसे लोग राजनीतिक मजबूरियों के कारण मोहरे और उपकरण बन जाते हैं। इस्लाम का असली दुश्मन पर्दे के पीछे साजिशें रच रहा है।

इसी तरह, मौलाना अब्बास अली खूई साहब ने वसीम रिज़वी के खिलाफ बयान देते हुए कहा कि कुरान की एक आयत का इंकार पूरे कुरान से इनकार है और इस तरह वसीम रिजवी को मुसलमान कहलाने का कोई हक नहीं है बल्कि उसके नाम के आगे से रिज़वी भी हटा देना चाहिए। विरोध में भाग लेने वाले विश्वासियों ने वसीम रिजवी के विरोध और एकजुटता के समर्थन में नारे लगाए।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
1 + 7 =