۲۹ اردیبهشت ۱۴۰۱ |۱۷ شوال ۱۴۴۳ | May 19, 2022
بڑاگاوں جونپور کی عماری کے سرکردہ رکن جناب وسیم حیدر کا ہارٹ اٹیک سے اچانک انتقال

हौज़ा / मौलाना मज़ाहिर हुसैन ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि पवित्र पैगंबर (स.ल.व.व) के नवासे हज़रत इमाम हुसैन (अ.स.) ने आज ही के दिन मदीना से कर्बला के लिये अपनी यात्रा शुरू की थी। 28 रज़ब सन 60 हिज़री इमाम हुसैन (अ.स.) के कारवां ने मानवता के अस्तित्व और सुरक्षा के लिए अपने महान बलिदान पेशकश किया।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार,  उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के घोसी शहर में 28 रजब के अवसर पर एक शोक जुलूस आयोजित किया गया। बड़ागांव इमाम चौक से बरामद हुआ जुलूस सरदार इमामबारगाह पर खत्म हुआ। जुलूस के दौरान अंजुमन सज्जादिया ने नौहा ख्वानी पेश की अंजुमनए मासूमिया और बहुत सी अंजुमनए मातमी जुलूस में शामिल रही।
जुलूस के दौरान कर्बला में हुई दु:खद घटना पर संदेह हुआ। जुलूस में बड़ी संख्या में महिलाएं बच्चे भी थे।
जुलूस का बेहतर प्रबंधन करने के लिए पुलिस कर्मियों को भी तैनात किया गया था।
जुलूस के दौरान वरिष्ठ पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर मौजूद थे।
मौलाना मज़ाहिर हुसैन ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि पवित्र पैगंबर (स.ल.व.व.) के नवासे  हजरत इमाम हुसैन (अ.स.)ने आज के दिन मदीना मुनव्वरा से कर्बला का सफर शुरू किया 28रजब सन 60 हिजरी को इमाम हुसैन (अ.स.) इंसानियत की बका और तहफ्फुज़ के लिए अपनी कुर्बानी पेश की।
उन्होंने कहा कि आज का दिन इतिहास में ज़ुल्म के खिलाफ और मानवता के पक्ष में ये दिन याद किया जाना चाहिए।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
1 + 1 =