۴ بهمن ۱۴۰۰ |۲۰ جمادی‌الثانی ۱۴۴۳ | Jan 24, 2022
आयतुल्लाह मरअशी

हौज़ा / हौज़ा-ए-इल्मिया नजफ़ अशरफ़ के प्रमुख धार्मिक विद्वान और धार्मिक स्कालर आयतुल्लाह सैयद रज़ी मरअशी का निधन हो गया है।


हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, हौज़ा-ए-इल्मिया नजफ़ अशरफ़ अपने सबसे प्रमुख धार्मिक विद्वान आयतुल्लाह सैयद रज़ी मरअशी के निधन पर शोक की स्थिति में है।

आयतुल्लाह मरअशी को अत्यधिक कष्ट और उत्पीड़न के समय में सच्चाई और मराज-ए-एज़ाम का संरक्षण करने के लिए अपने मजबूत रुख के लिए जाना जाता था।

इस्लाम और अहलैबेत (अ.स.) की रक्षा में अपना धन्य जीवन व्यतीत करने के बाद, उन्होंने 86 वर्ष की आयु में शनिवार 28 रजब 1442 हिजरी को अपने जीवन की अंतिम सास ली।

आयतुल्लाह मरअशी का जन्म 1356 हिजी में नजफ अशरफ में हुआ था और 1366 हिजरी में नजफ अशरफ के मदरसा में प्रवेश किया। 1370 हिजरी में उन्होंने "प्रारम्भिक शिक्षा" पूरी की और 1380 हिजरी की शुरुआत में उन्होंने "स्तानक की पढ़ाई" शुरू किए और इस चरण के बाद उन्होंने 30 वर्षों तक अध्ययन किया।

उन्होंने आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद मोहसिन हकीम, आयतुल्लाहिल उज़मा सैयद अबुल कासिम खूई, इस्लामी क्रांति के संस्थापक आयतुल्लाहिल उज़मा इमाम खुमैनी और आयतुल्लाह शेख हुसैन अल-हिल्ली जैसे महान हस्तियों के व्याख्यान (दर्से खारिज) में भाग लिया।

वह अपने धर्मपरायणता और धर्मनिष्ठता के लिए जाने जाते थे और धार्मिक क्षेत्रों में उनकी विशेष विद्वता थी और आम लोगों की नज़र में उनकी सामाजिक और सामूहिक स्थिति भी थी। वह इमामों (अ.स.) के पवित्र हरम, विशेष रूप से हज़रत अमीर अल-मोमेनीन और हज़रत सैय्यदुश्शोहदा (अ.स.) की जियारत का नियमित रूप से प्रबंध करते थे, और वह अहलेबेत (अ.स.) के जन्म दिन के मौके पर समारोह आयोजित करते थे।  बीमारी के बावजूद, वे इन समारोहों में शामिल होते थे।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
7 + 1 =