۶ تیر ۱۴۰۱ |۲۷ ذیقعدهٔ ۱۴۴۳ | Jun 27, 2022
आयतुल्लाह अल्वी गुर्गानी

हौज़ा / दुनिया में मानवाधिकारों का मुद्दा कई सालों से दुनिया पर हावी होने, अमेरिका और अंतर्राष्ट्रीय ज़ायनिज़्म की विचारधारा को आगे बढ़ाने के बहाने के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। यह वास्तव में आश्चर्यजनक है कि इस युग के वह देश मानवाधिकारों का दावा कर रहे हैं जिनके अपने हाथ लाखों निर्दोष लोगों के खून से सने है।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, आयतुल्लाह अल्वी गुर्गानी के " सर्वोच्च नेता की दृष्टि मे अमेरिकी मानवाधिकार " नामी आयोजित एक कांफ्रेंस के नाम दिए गए संदेश का पाठ जोकि तुर्की में यूथ ऑर्गेनाइजेशन ऑफ ह्यूमन राइट्स के महासचिव द्वारा पढ़कर सुनाया गया, निम्नलिखित हैः 

बेस्मेही तआला

दुनिया में मानवाधिकारों का मुद्दा कई सालों से दुनिया पर हावी होने, अमेरिका और अंतर्राष्ट्रीय ज़ायनिज़्म की विचारधारा को आगे बढ़ाने के बहाने के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। यह वास्तव में आश्चर्यजनक है कि इस युग के वह देश मानवाधिकारों का दावा कर रहे हैं जिनके अपने हाथ लाखों निर्दोष लोगों के खून से सने है ।

इन सभी समस्याओं में मुख्य दोषी अमेरिका है, जो इन सभी खूंखार अहंकारियों और उनके समर्थक तानाशाहों का समर्थन करता है और उनके अपराधों पर चुप रहता है। वह अपने ही नागरिकों को सताने में भी संकोच नहीं करता। क्या अमेरिकी राजनेताओं की नजर में काले अमेरिकी, इंसान नहीं हैं? या इराक, अफगानिस्तान, कश्मीर, यमन और कुछ अफ्रीकी देशों के लोग इंसान नहीं हैं जिनकी हत्याओं को अमेरिका और उसके दमनकारी समर्थकों ने चुप्पी साध रखी  है?

निश्चित रूप से उनके अनुसार, मानवाधिकारों का मतलब केवल उन नागरिकों के अधिकारों से है जिन्होंने उनकी दमनकारी नीतियों को स्वीकार किया है और उनकी गंदी संस्कृति में डूबे हुए हैं, साथ ही उन लोगों ने भी उपनिवेशवाद पर निर्भरता का अपमान स्वीकार किया है। 

इसलिए, सर्वोच्च नेता ने भी एक बयान में कहा: "अगर कोई और मानव अधिकारों के बारे में बात करता है, तो उन्हें ऐसा करने दें, लेकिन अमेरिकियों को मानवाधिकारों के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है, क्योंकि दुनिया में अधिकांश मानव अधिकार का सबसे अधिक उल्लंघन करने वाली सरकार है।" अमेरिकी सरकार है। "

हमें आशा है कि आप युवा इस तरह के सम्मेलन आयोजित करने से मानव अधिकारों के क्षेत्र में अमेरिका और उसके सहयोगियों के झूठ का पर्दाफाश करने में सक्षम होंगे और क्षेत्र में मुस्लिम राष्ट्रों और सरकारों को अमेरिकी मानव अधिकारों के खतरों से जागृत कर पाएंगे। इस्लाम और इस्लामी विद्वान, विशेष रूप से सर्वोच्च नेता के आदेशो से मार्गदर्शन लेते हुए इस्लाम, मुसलमानों और मज़लूमो के दुश्मनों को पराजित करेंगे।

हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि सच्चे उद्धारकर्ता के उद्भव का मार्ग प्रशस्त करें और इन अभिमानी लोगों और उनके झूठे दावों से दुनिया को बचाएं।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
9 + 5 =