۷ خرداد ۱۴۰۱ |۲۶ شوال ۱۴۴۳ | May 28, 2022
हिज़्बुल्लाह महासचिव

हौज़ा / लेबनान में हिज़्बुल्लाह महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह ने वेटरन डे के अवसर पर लेबनान में क्षेत्रीय और आंतरिक स्थिति के साथ-साथ कैबिनेट के गठन के संकट पर बात की।

हौजा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट अनुसार, हिज़बुल्लाह महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह ने गुरुवार रात को वेटरन डे के अवसर पर संबोधित किया उन्होने सर्वप्रथम प्रतिरोध आंदोलन और हाल के शहीदों के परिवारों को धन्यवाद दिया। और हाल के शहीदो के घर वालो को संवेदना व्यक्त की। उन्होने कहा कि प्रतिरोध बलों और उनके परिवारों ने प्रतिरोध की दिशा में और उस क्षेत्र में अंतर्दृष्टि प्राप्त की है जिसमें उन्होंने सेवा की है। हिजबुल्लाग के महासचिव ने अल-कायदा और अमेरिकी खुफिया सेवा जैसे आतंकवादी समूहों के बीच संबंधों के बारे में यमनियों के हालिया इंकेशाफात के खुलासे का उल्लेख करते हुए कहा कि इन आतंकवादी समूहों और उनके निर्माण और समर्थन करने वालों के अस्तित्व की वास्तविकता स्पष्ट रूप से स्पष्ट हो रही है। आगे कहा हमे के अमेरिकी खुफिया सेवा के माध्यम से देशों की राष्ट्रीय सेनाओं को नष्ट करने के लिए निर्मित, संचालित, सहायता प्राप्त और सशस्त्र समूहों का सामना है।

सैयद हसन नसरूल्लाह ने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका को यमन से लेकर इराक और सीरिया तक इन समूहों का समर्थन करते हुए देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि यमन, सीरिया और इराक में प्रतिरोध और उनके सहयोगियों के दुश्मनों ने गृहयुद्ध शुरू कर दिया है, अब वे ईरान और लेबनान मे शुरू करना चाहते थे लेकिन सफल नहीं हुए, हसन नसरूल्लाह ने कहा, कुछ विदेशी और घरेलू दल देश को गृहयुद्ध की ओर ले जाने की कोशिश कर रहे हैं जिसके लिए ईंधन और जलाऊ लकड़ी तलाश कर रहे है।

उन्होंने कहा कि हिजबुल्लाह का सरकार बनाने या आर्थिक और वित्तीय स्थिति में सुधार करने के लिए हथियारों का इस्तेमाल का इरादा नहीं है, हसन नसरूल्लाह ने कहा कि विदेशी सहित लेबनान में समस्याओं और संकटों के विभिन्न कारण हैं। संपत्ति और धन की तस्करी, भंडार की जब्ती। अन्य देशों में, बेरुत बंदरगाह और तनावों की बमबारी, इन सभी कारकों को लेबनान द्वारा संबोधित किया जाना चाहिए। नहीं तो कोई हल नहीं निकल सकता।

उन्होंने कहा, हालांकि, यह नोट करना महत्वपूर्ण है कि लेबनान पर अमेरिकी दबाव और कुछ आर्थिक संकट के लिए देश के खतरे का कारण है, जबकि लेबनान में मौजूदा संकट दशकों की नीतियों का परिणाम है। हां, कैबिनेट गठन संकट के समाधान की शुरुआत है।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
1 + 12 =