۲۹ اردیبهشت ۱۴۰۱ |۱۷ شوال ۱۴۴۳ | May 19, 2022
अहलैबेत काउंसिल आफ इंडिया

हौज़ा / अहलेबेत काउंसिल ऑफ़ इंडिया की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई जिसमें देश भर के विद्वानों ने वसीम रिज़वी के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट में पवित्र कुरान का अपमान करने और कुरान की 26 आयतों को हटाने के लिए दायर जनहित याचिका को खारिज करने की मांग की। 

हौजा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार, अहलेबेत काउंसिल ऑफ इंडिया की 24 मार्च को एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई,जिसमें देश भर के विद्वानों ने वसीम रिज़वी के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट में पवित्र कुरान का अपमान करने और कुरान की 26 आयतों को हटाने के लिए दायर जनहित याचिका को खारिज करने की मांग की।

दुसाहसी वसीम रिजवी को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए: अहलेबैत काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्यो की मांग

बैठक में, दिल्ली की शिया जामा मस्जिद के इमाम मौलाना मुहम्मद अली मोहसिन तक़वी ने कहा कि वसीम रिज़वी ने कुरान का अपमान करने के बाद माफी नही मांगी है उनका शिया धर्म और इस्लाम से कोई लेना-देना नहीं है।

दुसाहसी वसीम रिजवी को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए: अहलेबैत काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्यो की मांग

मौलाना सैयद शमशाद अहमद रिज़वी ने कहा कि वसीम ने पवित्र कुरान पर आपत्ति जताते हुए साबित कर दिया है कि वह इस्लाम विरोधी ताकतों का एक उपकरण बन गया है और मुस्लिम उम्मा में मतभेद पैदा करना चाहता है अपने उद्देश्य मे पूरी तरह से विफल रहा है।

मस्जिद इमामिया हॉल के इमामे जुमा मौलाना शेख मुमताज़ अली ने कहा कि वसीम जैसे लोग पहले भी इस तरह के जघन्य कृत्य करते रहे हैं लेकिन जिस तरह से पूरी मुस्लिम उम्माह वसीज़ रिजवी के खिलाफ एकजुट हुई है वह एक अच्छा कदम है।

अहलेबैत काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना सैयद मोहम्मद रज़ा ग़रवी ने कहा कि वसीम रिज़वी के खिलाफ पूरे मुस्लिम उम्माह की एकता राष्ट्र की एकता को उजागर करती है और कुरान पवित्र पैगंबर पर नाजिल की गई एक किताब है जिसमें एक शब्द को भी कम या ज्यादा करने की संभावना नही है।

इलाहाबाद से आए मौलाना सैयद जवाद हैदर जवादी ने कहा कि वसीम रिज़वी का इस कदम के बाद देश के साथ-साथ उनके परिवार ने भी बहिष्कार किया है। ऐसे लोगों का इस्लामिक समाज से कोई लेना-देना नहीं है।

जौनपुर के मौलाना सैयद सफदर हुसैन जैदी ने वसीम रिजवी की निंदा की और उनके बहिष्कार की घोषणा की।

आजमगढ़ के मौलाना सैयद सुल्तान हुसैन ने कहा कि वसीम रिजवी को रिजवी नहीं बल्कि वसीम रुश्दी कहा जाना चाहिए क्योंकि वसीम रिजवी ने वही किया है जो सलमान रुश्दी ने किया था।

जयपुर के मौलाना सैयद नाज़ेश अकबर ने वसीम रिज़वी के इस कदम की कड़ी निंदा की और कहा कि वह केवल सरकार को खुश करने के लिए लोगों में मतभेद फैलाना चाहता है।

भोपाल के इमामे जुमा मौलाना सैयद अजहर हुसैन ने कहा कि वसीम रिजवी ने मुसलमानों को विश्व स्तर पर बदनामी का कारण बना हुआ है और उसे इस्लाम से निष्कासित करने का निर्णय सराहनीय है।

पुंछ के मौलाना करामत हुसैन जाफरी ने वसीम रिजवी की निंदा करते हुए उन्हें कुख्यात सलमान रश्दी और तस्लीमा नसरीन के बराबर बताया।

दुसाहसी वसीम रिजवी को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए: अहलेबैत काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्यो की मांग

बैठक में, मौलाना सैयद रईस अहमद जारचवी ने वसीम रिज़वी के माध्यम से कुरान के अपमान को अत्यधिक निंदनीय बताया और कहा कि वसीम रिज़वी जैसे लोगों को कड़ी सजा दी जानी चाहिए और सुप्रीम कोर्ट  अपील को खारिज करते हुए वसीम रिजवी पर भारी जुर्माना लगाने के साथ साथ सख्त सजा दी जाए। 

अहमदाबाद के मौलाना सैयद मोहम्मद अख्तर रिज़वी ने वसीम रिज़वी की निंदा की और बहिष्कार की अपील की।

मौलाना अली हैदर गाजी, मौलाना शेख मोहम्मद अस्करी, मौलाना इश्तियाक हुसैन सीतापुर, मौलाना नामदार अब्बास, मौलाना अजीम हुसैन जैदी, मौलाना मासूम अली जैदी, मौलाना मिर्जा इमरान अली, मौलाना जिनान असगर मौलाई, मौलाना हैदर महदी करीमी, अली अब्बास हमीदी, मौलाना आरिफ आज़मी, मौलाना अज़हर अब्बास मिर्ज़ा, मौलाना इब्न अली हैदरी, मौलाना मुहम्मद रज़ा जैदी, मौलाना मिर्ज़ा इरफ़ान अली ने वसीम रिज़वी की कड़ी निंदा की।

दुसाहसी वसीम रिजवी को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए: अहलेबैत काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्यो की मांग

अहलेबैत काउंसिल के महासचिव मौलाना सैयद जलाल हैदर नकवी ने देश भर के सभी विद्वानों का शुक्रिया अदा किया।

दुसाहसी वसीम रिजवी को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए: अहलेबैत काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्यो की मांग

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
3 + 1 =