۲۷ مرداد ۱۴۰۱ |۲۰ محرم ۱۴۴۴ | Aug 18, 2022
तन्जीमुल-मकतिब केसचिव

हौज़ा / तन्जीमुल-मकतिब केसचिव ने कहा कि ब्रह्मांड में केवल अली की सरकार थी जिसमें कोई भी भूखा नहीं सोता था। इंशााल्लाह इमामे जमाना (अ.त.फ.श.) के जहूर के बाद जब सरकार बनेगी तो वहा भी यही अंदाज़ होगा।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, दाउदपुर में आयोजित शोक सभा में तन्जीमुल-मकतिब केसचिव मौलाना सैयद सफ़ी हैदर जैदी ने अमीरूल मोमेनीन (अ.स.) की हदीस की व्याख्या करते हुए कहा कि इंसान कमाल पसंद है अच्छाई पसंद है कमाल अपनी ओर आकर्षित करता है अच्छाई मानव को अपनी ओर खीचती है। किसी की निगाह मे ज्ञान कमाल है किसी की निगाह मे माल का एकत्रित करना कमाल है किसी की निगाह मे कोई पद कमाल होता है। जिसकी नजर मे जो चीज कमाल वाली होती है, जिसकी नजर मे जो चीज अच्छी होती है वह उसे प्राप्त करता है। यह बात भी ध्यान मे रहे कि यह ख्वाहिश केवल बाप की होती है कि उसकी संतान उससे अधिक कमाल वाली हो नबी अकरम की हदीस की रोशनी मे हजरत अली (अ.स.) इस उम्मत के बाप है। तो क्या अमीरुल मोमेनीन (अ.स.) नही चाहते होंगे कि हम कमाल वाले हो ? हालाँकि किसी के लिए भी उसका साथ देना संभव नहीं है, लेकिन कोई भी उनकी जीवनी को अपना सकता है, उनकी शिक्षाओं का पालन कर सकता है। ब्रह्मांड में अली का शासन केवल एक ही था जिसमें कोई भी भूखा नहीं सोता था। इंशााल्लाह इमामे जमाना (अ.त.फ.श.) के जहूर के बाद जब सरकार बनेगी तो वहा भी यही अंदाज़ होगा।

तन्ज़ीमुल-मकातिब के सचिव ने बताया कि एक व्यक्ति पैगंबर की सेवा में आया और कहा, "मेरी छह मांगें हैं। मैं चाहता हूं कि आप मेरी इन मांगों को पूरा करें।" मेरी पहली मांग है कि अल्लाह मुझ से प्रसन्न हो, लोग मुझ से प्रसन्न हो, मेरा भला हो हो, मैं लंबे समय तक जीवित रह सकू,  मुझे स्वास्थ्य मिले और मेरा कल्याण हो, और आखरत में आपका पड़ोस मिले। नबी ने फरमाया: अगर तुम अल्लाह को खुश करना चाहते हो, तो उसकी बात मानो और उसकी अवज्ञा मत करो। इंसान अपने अल्लाह को छोड़कर सभी को खुश करने की सोचता है, जबकि अल्लाह को खुश करना सबसे आसान काम है। पैगंबर ने कहा: यदि आप चाहते हैं कि लोग आपसे प्रसन्न हों, तो उन पर नज़र रखें कि आपके पास क्या है और उन्हें बताएं कि आपके पास क्या है। यदि आप चाहते हैं कि आपका प्रावधान धन्य हो, तो वह अंजाम दे जो अल्लाह ने वाजिब किया है। (खुम्स और ज़कात) इसे अदा करते रहें। यदि आप चाहते हैं कि आपका जीवन लम्बा हो, तो उस रिश्ते को बनाए रखें जो अल्लाह ने आपके साथ बनाया है, यानी सिले रहम। सिले रहम को तोड़ने से उम्र कम हो जाती है। हमारे समाज की प्रमुख समस्याओं में से एक आज करुणा (सिले रहमी) की कमी है, रिश्तेदारों से दूरी जबकि ये रिश्ते खुद अल्लाह द्वारा बनाए गए हैं। उन्होंने कहा, "यदि आप स्वस्थ रहना चाहते हैं, दान दें, यदि आप आखिरत मे मेरे पड़ोसी बनना चाहते हैं।" लंबे समय तक सजदे करो।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
2 + 0 =