۶ تیر ۱۴۰۱ |۲۷ ذیقعدهٔ ۱۴۴۳ | Jun 27, 2022
آیت اللہ حافظ ریاض نجفی

हौज़ा /वेफाकुल मदारिस शिया पाकिस्तान के अध्यक्ष ने कहां की अल्लाह को याद करना और उसके साथ जुड़े रहना सफलता की गारंटी है। जो इस दुनिया में अल्लाह को भूला देता है आखिरत में अल्लाह भी उसे भुला देगा, दुनिया में भी खुद फरामोशी की सज़ा मिलती है।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार,वेफाकुल मदारिस शिया पाकिस्तान के अध्यक्ष आयतुल्लाह हाफिज़ रियाज़ नजफ़ी शुक्रवार के उपदेश में बताते हुए, उन्होंने कहा कि अल्लाह की याद और उसके साथ संपर्क सफलता की गारंटी है। वह जो इस दुनिया में अल्लाह को भूल जाता है, अल्लाह उसे अखिरत में भूल जाएगा। दुनिया में भी खुदा फरामोशी की सज़ा मिलती है, कुरान में बार-बार पिछले लोगों के बारे में उनके कारनामे के बारे में जि़क्र किया गया है, जो बेहतरीन घर में रहते थे पहाड़ तराश कर घर बनाते थे लेकिन जब अल्लाह की नाफरमानी की सज़ा मिली तो हर चीज तबाह बर्बाद हो गई। अल्लाह चाहे तो हर गुनाह के लिए तुरंत सजा दे सकता है, लेकिन वह मोहलत देता है अल्लाह की कुदरत ताकत इंसान की ताकत से ज्यादा नहीं, कुछ वाजेबात की पाबंदी और कुछ मोहर्रमात से बचने का नाम इताअत हैं।
उन्होंने कहा कि सूरे वाक्य की बहुत अज़मत है। इसे हम आप पढ़ने की तकिद कि गई है। मारुफ सहाबी हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसूद मरीज़ हुए तो हज़रत उस्मान अयादत के लिए गए तो उनकी हालत के बारे में पूछा? जवाब दिया जब जरूरीआत थी तो किसी ने पूछा नहीं अब तो जाने की तैयारी है। हज़रत उस्मान ने औलाद की मदद करने की पेशकश की, तो उन्होंने जवाब दिया, "मैंने बच्चों के लिए हर रात सूरे वाक़िया पढ़ना अनिवार्य कर दिया है, क्योंकि पैगंबर(स.अ.व.व.)ने फरमाया: कि गरीबी और भुखमरी इस के साथ समाप्त हो जाएगी, किसी की ज़रूरत नहीं होगी।

उन्होंने आगे कहा कि आज 11 शाबान हज़रत अली अकबर (अ.स.) का जन्मदिन है, जो कर्बला के उन अहम किरदारों में से एक हैं, जिनका जन्म शाबान के महीने में हुआ हैं। 
15 शाबान उस हस्ति का जन्मदिन है, जिसके बारे में पवित्र पैगंबर ने कहा था कि यदि पृथ्वी में ईश्वर का कोई प्रमाण नहीं होता, अगर खुदा की कोई हुज्ज़त ना होती तो धरती कायम न रहती।

अंत में, उन्होंने कहा कि इस साल 23 मार्च भी शाबान में आया हैं।
पाकिस्तान के प्रस्ताव को फज़लुल्लाह ने पूर्वी पाकिस्तान से स्थानांतरित कर दिया था। जब एक हज़ार मील की दूरी के बावजूद आपसी प्रेम बना रहा
मुल्क में शांति बनी रहे लेकिन जब खराबीया पैदा हुई तो मुल्क टूट गया। और बहुत सारी मुश्किल आ गई।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
4 + 6 =