۶ تیر ۱۴۰۱ |۲۷ ذیقعدهٔ ۱۴۴۳ | Jun 27, 2022
मौलाना सैयद सफी हैदर जैदी

हौज़ा / तनज़ीमुल मकातिब के सचिव ने कहा वसीम रिज़वी ने अपनी समस्याओं को छुपाने के लिए कई अन्य मुद्दों को उठाने की असफल कोशिश की। अयोध्या मामले में एक पार्टी बनना या एक विवादास्पद फिल्म पेश करना उसी श्रृंखला में एक कड़ी थी और अंतत: पवित्र कुरान की आयतो का इनकार करके अपनी हकीकत दुनिया के सामने जाहिर कर दी ।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, लखनऊ / उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी के खिलाफ तनजीमुल मकातिब के सचिव हुज्जतुल इस्लाम वल मुस्लेमीन मौलाना सैयद सफी हैदर ज़ैदी ने एक संदेश जारी करते हुए कहा कि औक़ाफ़े हुसैनी में गबन की सजा से बचने के लिए उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष  वसीम रिज़वी ने सभी सीमाएँ पार कर लीं है।

कथन का पूरा पाठ इस प्रकार है;

बिस्मिल्लाहिर्रहमानिर्राहीम
नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने कहा:
काला रसूल अल्लाह (स.अ.व.व.)

मन आआना ज़ालेमन अला ज़ुलमेहि जाआ यौमल क़यामते वा अला जबहतेही मकतूबुनः आएसुन मिन रहमतिल्लाह 

कंजुल उम्माल 14950

नबी (सल्लल्लाहु अलैहि व आलेही वसल्लम) ने फरमाया: "जो भी किसी ज़ालिम की उसके जुल्म मे मदद करेगा तो वह रोज़े कयामत इस हाल मे लाया जाएगा कि उसकी पेशानी पर लिखा होगा कियह अल्लाह की रहमत से मायूस है।"
अल्लाह की रहमत से निराशा कुफ्र के समान है। पवित्र कुरान भी स्पष्ट शब्दों में घोषित करता है: "नेकी और तकवे मे एक दूसरे की मदद करो, सावधान रहो; पापों और अवज्ञा में किसी की भी मदद मत करो।" (सूरत अल-मायदा, आयत 2)
रिवायात की रोशनी में, अत्याचारी, उत्पीड़न के सहायक, यहां तक ​​कि जो लोग उत्पीड़न से संतुष्ट हैं, तीनो जुल्म मे बराबर के भागीदार हैं।

उत्तर प्रदेश के शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष ने ओक़ाफे हुसैनी में गबन की सजा से बचने के लिए सभी सीमाओं को पार कर लिया, अपनी समस्याओं को छुपाने  के लिए कई अन्य मुद्दों को उठाने की असफल कोशिश की, अयोध्या मामले में एक पार्टी बनना या एक विवादास्पद फिल्म बनाना उसी श्रृंखला की एक कड़ी थी और अंत में उन्होंने पवित्र कुरान की आयतों को नकारते हुए दुनिया के सामने अपनी सच्चाई का खुलासा किया।

जब परमेश्वर के वचन के खिलाफ ईश निंदा की हर तरफ से निंदा होने लगी, तो हममें से कितने लोग यह नहीं समझते कि अब उसने ईश्वर के वचन के खिलाफ ईश निंदा की है, जो मुसलमान अब तक उसके साथ थे, उन्होने भी उसका साथ छोड़ दिया होगा। और यह अत्याचारी अब अकेला रह गया होगा। लेकिन जब ट्रस्टियों में से कुछ ने इस सब के बावजूद सत्य का नहीं, धर्मत्याग का समर्थन किया, और उसका साथ दिया तो हमारे आश्चर्य की सीमा नही रही और पछतावा हुआ कि कैसे दुनिया की वासना आखेरत और अनन्त पीड़ा से भी निडर बनाती है।

वे सभी लोग जो किसी भी हवाले से उसका समर्थन कर रहे हैं वे सभी निंदनीय हैं और उसके अपराध में समान रूप से भागीदार हैं। उन्हें पुनर्विचार करना चाहिए कि उन्हे हुर बनना है या हुरमला।

हम ऐसे सभी लोगों को नसीहत देते हैं कि वे किसी अनजान दुनिया की खातिर अपने को बर्बाद न करें और इन सभी लोगों की कड़ी निंदा करें और अगर वह अपनी बातिल बातो पर अड़े है।

और जहाँ जहां भी मुनकिरे आयात इलाही का समर्थन करने वाले लोग हैं, हम अपने आस-पास के विश्वासियों से यह कहते हैं कि वे नास्तिकों को मना करने का कर्तव्य निभाएं और उन्हें मुनकिरे कुरान का साथ देने से रोकें ताकि कल को बारगाहे मासूमीन मे सुर्ख रूह हो सके।

हम अल्लाह से दुआ करते हैं कि अगर ये हिदायत के योग्य है तो उनकी हिदायत करें, और अगर वे हिदायत के योग्य नही है तो हम सभी को उनकी बुराई से बचाएं।

वस्सलाम

मौलाना सैयद सफी हैदर जैदी
तनजीमुल मकातिब के सचिव

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
8 + 6 =