۱۴ تیر ۱۴۰۱ |۵ ذیحجهٔ ۱۴۴۳ | Jul 5, 2022
मौलाना ज़मान बाक़री

हौजा / अगर जान को खतरा है, तो मस्जिदों, मंदिरों, गुरुद्वारों, चर्चों, इमामबाड़ा, किसी भी इबादत गाह मे जाने से बचें। इस बीमारी को मजाक न समझें और न ही इसका मजाक बनाएं और इससे बचने के हर उपाय की तलाश करें। अपने शहर के प्रशासन के साथ जितना संभव हो उतना सहयोग करें। यह इस्लाम में सबसे बड़ी इबादत बताई गई है।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, हुज्जतुल-इस्लाम वल मुस्लेमीन मौलाना सैयद मोहम्मद ज़मान बाक़री ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड लखनऊ के सदस्यऔर रामपुर की शिया इमाम बाड़ा क़िले के इमामे जमात ने एक बयान में कहा कि रमजान महीना के तसव्वुर से रोजे का तसव्वुर जहन मे आता है।  यही कारण है कि इसे रोजेदारो का महीना भी कहा जाता है और यह रोजे की अवधारणा के साथ धैर्य और मना का खतूर देता है। इसलिए, इसे धैर्य का महीना भी कहा जाता है। अल्लाह की भी ईश्वरीय कृपा का महीना है।

उन्होंने कहा कि जिस तरह कोरोना के कारण हर मस्जिद और पूजा स्थल पिछले साल सूने थे , उसी तरह इस साल भी हमारी सरकार ने समाचार पत्रों के माध्यम से बताया है कि यह बीमारी पिछले साल इतनी तेजी से नही फैली थी। जितनी तेजी से इस साल फैली है , और इस साल, मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, भारत में कोरोना से मरने वालों की संख्या पौने दो लाख तक पहुंच गई। जबकि पिछले साल सरकार की गाइडलाइन को देखते हुए एक लाख थी। और 30 अप्रैल तक, जिसमें सरकार ने एक समय में केवल पांच लोगों को मस्जिद में प्रार्थना करने और सामाजिक दूरी बनाने की अनुमति दी है। अगर किसी की जान को खतरा है, तो सार्वजनिक बैठकों में जाने से बचे। फिक्हे जाफरी मे है अगर किसी व्यक्ति को मधुमेह है और रोजा रखना उसके लिए सख्त हो, तो वह रोजा नहीं रख सकता। उसी तरह, अगर जीवन के लिए खतरा है, तो मस्जिद, मंदिर, गुरुद्वारा, चर्च, इमामबाड़ा किसी भी पूजा स्थल पर जाने से बचें। इस बीमारी को मजाक के रूप में न लें या इसका मज़ाक न बनाएं और इससे बचने के हर उपाय की तलाश करे और हर एहतियाती उपाय खोजें।

उन्होंने उनसे अपने शहर के प्रशासन के साथ यथासंभव सहयोग करने और सहयोग करने का आग्रह किया। यह इस्लाम में पूजा का सबसे बड़ा कार्य माना जाता है।

उन्होंने आगे कहा कि रोजा इस्लाम में इबादत है जिसे धर्म की एक शाखा के रूप में माना जाता है। पहले नमाज हौ उसके बाद दूसरा रोजा है। रोजे का मुख्य उद्देश्य यह है कि एक व्यक्ति को न केवल खाने पीने से परहेज न करे बल्कि हर अंग को रोजा रखना चाहिए। अपनी आंखों से गैर-महरम को न देखे, हाथों से कमजोर व्यक्ति को परेशान नहीं करना चाहिए, गपशप नहीं करना चाहिए इत्यादि।

अंत में, उन्होंने कहा कि जब कोई रोजा रखने वाला व्यक्ति रोझा रखता है, तो उसका सोना इबादत माना जाता है। उसका सांस लेना तस्बीह से पुरस्कृत किया जाता है। इसी तरह, अगर कोई व्यक्ति रोजेदार को रोजा इफ्तार कराए तो जितना सवाब रोजा रखने वाले को मिलता है उतना ही सवाब इफ्तार कराने वाले को मिलता है। मासूमीन से रिवाय है आप रोजेदारो का रोजा इफ्तार कराए, किसी ने पूछा, या इमाम हम गरीब हैं। यह कैसे संभव है कि हम किसी को इफ्तार कराए? इमाम (अ.स.) ने कहा कि भले ही वह आधी खजूर से हो, आप ईमान वालों का रोज़ा इफ्तार कराए तो आपको हज़ारों गुना सवाब मिलेगा।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
1 + 11 =