۱۱ تیر ۱۴۰۱ |۲ ذیحجهٔ ۱۴۴۳ | Jul 2, 2022
शेख महरूस

हौज़ा/ बहरैन के शिया धर्मगुरु शेख मिर्ज़ा महरूस ने बहरैन की सेंट्रल जेल "जव्व" प्रशासन द्वारा चिकित्सा सुविधाओं की व्यवस्था नहीं किए जाने सहित दुराचार के विरोध में भूख हड़ताल पर हैं।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, बहरैन के शिया धर्मगुरु शेख मिर्ज़ा महरूस ने बहरैन की सेंट्रल जेल "जव्व" प्रशासन द्वारा चिकित्सा सुविधाओं की व्यवस्था नहीं किए जाने सहित दुराचार से तंग आकर शुक्रवार, 16 अप्रैल, 2021 से भूख हड़ताल शुरू कर दी है। 

स्थानीय सूत्रों ने शिया धर्मगुरु के परिवार के हवाले से कहा कि शेख महरूस बीमारियों से पीड़ित है, जबकि वैकल्पिक जुर्माना कानून उनकी शारीरिक स्थिति के अनुरूप है और उनकी रिहाई के लिए एक साल पहले याचिका दायर की गई थी। नियम और शर्तों के बावजूद। अत्याचारी बहरीन सरकार मना कर रही है।

शेख महरूस के परिवार ने कोरोना वायरस के प्रसार के पेशे नजर और बहरैन की जेलों में 90 से अधिक कैदियों के कोरूना से पीडित होने की सूचना पर उनके स्वास्थ्य पर गंभीर चिंता व्यक्त की है।

गौरतलब है कि हुज्जतुल-इस्लाम वल मुस्लेमीन शेख महरुस को 15 साल कैद की सजा सुनाई गई थी, जिसमें से वह 10 साल की सजा काट चुके हैं। उन्होंने चिकित्सा सुविधाओं की कमी के कारण भूख हड़ताल शुरू कर दी है।

2011 में बहरैन की क्रांति में अपने गिरफ्तार होने के बाद, शेख महरूस को कई प्रकार की यातनाओं से पीठ दर्द हुआ। हालाँकि, वे इन बीमारियों के कारण आराम नहीं कर सके और जेल प्रशासन ने उनकी सुरक्षा पर कोई ध्यान नहीं दिया है।

यह याद किया जा सकता है कि एक बहरीन सैन्य अदालत ने हुज्जतुल-इस्लाम शेख महरूस को डेमोक्रेसी एलायंस के साथ संबंध स्थापित करने के लिए 15 साल जेल की सजा सुनाई थी।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
6 + 8 =