۱ خرداد ۱۴۰۱ |۲۰ شوال ۱۴۴۳ | May 22, 2022
अल्लामा मोहम्मद नजफी

हौज़ा/ किबला अव्वल की आज़ादी का नारा एक नारा नहीं बल्कि पूरी उम्मते मुसलमा की पहली प्राथमिकता थी और आज़ादी तक रहेगी।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार , जामिया मदीनातुल ईल्म इस्लामाबाद के प्रिंसिपल हुज्ज़तुल इस्लाम अल्लामा सैय्यद मोहम्मद नजफी ने अलविदा जुमा के मौके पर अपने एक मखसूस बयान में कहा:
किबला अव्वल की आज़ादी का नारा एक नारा नहीं बल्कि पूरी उम्मते मुसलमा की पहली प्राथमिकता थी और आज़ादी तक रहेगी।

उन्होंने आगे कहा कि इमाम खुमैनी ने इस्लामिक क्रांति से काफी पहले उम्माते मुस्लिमा के दिल में इस खंजर (इजरायल नामक ज़ायोनी राज्य) कि तरफ मुत्वाजेह किया,और लगातार इस भयावह साजिश के कार्यान्वयन के बाद भविष्य में उत्पन्न होने वाले खतरों की चेतावनी दी।
जो इस भयावह साजिश के लागू होने के बाद भविष्य में बन सकता था। उन्होंने न केवल इस संबंध में अपनी आवाज उठाई।
वास्तव में, इस्लामिक देशों के प्रमुखों को इस समस्या का समाधान बताते रहें, कभी-कभी आपकी आवाज़ इन शब्दों में चेतावनी देती है।
इस्लामी देशों के नेताओं को पता होना चाहिए कि यह भ्रष्टाचार (ज़ायोनी राज्य), जो इस्लामी भूमि के बीच में लगाया गया है,यह न केवल अरब देशों को कुचलने के लिए है, बल्कि पूरे मध्य पूर्व के लिए भी खतरा है।
उन्होंने कहा कि इसराइल की ये योजना इस्लामी दुनिया पर ज़ायोनीवाद के साथ हावी होने और इस्लामी देशों की सबसे उपजाऊ भूमि का कब्जा करने का इसराइली इरादा है।
और इस्लामी सरकारों की दृढ़ता, दृढ़ता और एकता के माध्यम से ही उपनिवेशवाद के काले सपने को मिटाया जा सकता है।
और यदि कोई भी सरकार इस्लाम का सामना करने वाले इस महत्वपूर्ण मुद्दे में विफल रहती है, तो अन्य सरकारों को उस सरकार को दंडित करना चाहिए, उसके साथ संबंध को तोड़ना चाहिए और उस पर दबाव बनाना चाहिए।
अंत में, उन्होंने कहा कि तेल संपन्न इस्लामिक देशों को तेल और अन्य संसाधनों का उपयोग इज़राइल के खिलाफ एक रणनीति (और हथियार) के रूप में करना चाहिए।
और उन देशों को तेल बेचने पर पाबंदी लगाए जो इसराइल की मदद कर रहे हैं, ये आवाज किबला अव्वल की आजादी तक गूंजती रहेगी, इंशाल्लाह पूरी दुनिया के किब्लये अव्वल की आजादी को अपनी आंख से देखेगा.

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
4 + 5 =