۸ خرداد ۱۴۰۱ |۲۷ شوال ۱۴۴۳ | May 29, 2022
पोस्टर

हौज़ा / दौरे हाज़िर में स्कूल, कालेज , यूनिवर्सिटी और रोज़गार की मसरूफियत के सबब हर इंसान के लिए मदरसा में दाख़ेला मुम्किन नहीं और आला दीनी तालीम के बग़ैर मक़सद तक रसाई भी मुम्किन नहीं, लेहाज़ा इसी अहम ज़रूरत को महसूस करते हुए सिक्रेट्री तन्ज़ीमुल मकातिब हुज्जतुल इसलाम वल मुस्लेमीन मौलाना सैयद सफी हैदर ज़ैदी साहब क़िब्ला ने इदारे तन्ज़ीमुल मकातिब की जानिब से  "ई जामिया इमामिया" का एलान किया ता कि हमारी बा अमल क़ौम बे ख़बर भी न रहे!

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, लखनऊ/ ज़ुहूर की तय्यारी, बे दीनी से जंग और दीनी माहौल साज़ी ग़ैबत के ज़माने की अहम ज़िम्मेदारी है जो बग़ैर तालीम के मुम्किन नहीं!

दौरे हाज़िर में स्कूल, कालेज , यूनिवर्सिटी और रोज़गार की मसरूफियत के सबब हर इंसान के लिए मदरसा में दाख़ेला मुम्किन नहीं और आला दीनी तालीम के बग़ैर मक़सद तक रसाई भी मुम्किन नहीं, लेहाज़ा इसी अहेम ज़रूरत को महसूस करते हुए सिक्रेट्री तन्ज़ीमुल मकातिब हुज्जतुल इसलाम वल मुस्लेमीन मौलाना सैयद सफी हैदर ज़ैदी साहब क़िब्ला ने इदारे तन्ज़ीमुल मकातिब की जानिब से  "ई जामिया इमामिया" का एलान किया ता कि हमारी बा अमल क़ौम बे ख़बर भी न रहे!

आला दीनी तालीम के हुसूल का शौक़ रखने वाले हज़रात जो उर्दू समझ सकते हों और उन्हे उर्दू, हिंदी, अंग्रेज़ी, गुजराती या बंगाली ज़बान लिखना आती हो तो वह आल लाइन तालीम के लिए इदारे तन्ज़ीमुल मकातिब के दिए गये नंबरों पर राबेता करें!

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
4 + 7 =