۲۸ مرداد ۱۴۰۱ |۲۱ محرم ۱۴۴۴ | Aug 19, 2022
बकरा

हौज़ा / मुसलमान बकरा काटकर उसका गोश्त ग़रीबों में बांटता है, जिन लोगो को वर्ष भर अच्छा खाने को नहीं मिलता, उनके अच्छे खाने का प्रबन्ध मुसलमान करता है, लेकिन कम्पनियां भैस, बकरा व मुर्गा प्रतिदिन अनगिनत कटवाते है अमीरों के खाने के लिए... इनके विरुद्ध कोई आवाज़ नहीं उठती।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट अनुसार, मुसलमान जानवरों की हत्या करता है, ज़ालिम है, गोश्त खाता है। और खास कर बक़रीद के समय ये सब अधिक उछाला जाता है, बकरा पालने वाले किसानों का लोग परेशान करते है, कभी-कभी बकरा और पैसे दोनो छीन लिये जाते है, ऐसे समाचार पूरे देश से हर साल बकरीद में आने लगते है, दो दिन पहले ऐसा समाचार हैदराबाद से आया, पुलिस ने भी पीड़ित की कोई मद्द नही कीं।

मुसलमान बकरा काटकर उसका गोश्त ग़रीबों में बांटता है, जिन लोगो को वर्ष भर अच्छा खाने को नहीं मिलता, उनके अच्छे खाने का प्रबन्ध मुसलमान करता है, लेकिन कम्पनियां भैस, बकरा व मुर्गा प्रतिदिन अनगिनत कटवाते है अमीरों के खाने के लिए... इनके विरुद्ध कोई आवाज़ नहीं उठती।


चलिये हम...मान ले मुसलमान ग़ल्त करता है, तो ये दुनिया भर में चलने वाली कं0 जो मीट की बनी चीज़े बेचती है, उनको मीट सप्लाई करने वाला भारत ही है, ये उन अन्ध भक्तों को नज़र क्यों नहीं आता, जो बकरीद त्यौहार पर हल्ला-गुल्ला करते है,.... सच से दूर, केवल नफरत फैलाने का काम करते है ये और इन लोगों को इसका पैसा मिलता है।

गाय के नाम पर राजनीतिक रोटियां सेंकने वाले जानते है कि इस समय भारत दुनिया का पांचवे नंबर का मांस निर्यातक देश है, ‘‘वही बीफ निर्यात के मामले में इस समय तो हम दुनिया में ब्राजील के साथ पहले स्थान पर हैं, वही सबसे ज्यादा बीफ निर्यातक राज्य उत्तर प्रदेश है, यह किसी से छुपा नही है’’...-महेंद्र पाण्डेय, वरिष्ठ लेखक
हमारा देश प्रतिवर्ष 42,50,000 मीट्रिक टन मांस का निर्यात करता है, इस सन्दर्भ में यह दुनिया में पांचवे स्थान पर है। केवल बीफ की बात करें तो यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर की रिपोर्ट के अनुसार हमारा देश प्रतिवर्ष 18,50,000 मीट्रिक टन बीफ का निर्यात करता है और इस सन्दर्भ में हम ब्राजील के साथ पहले स्थान पर हैं। वर्ष 2017 में केवल बीफ का कुल कारोबार 3 अरब डॉलर से अधिक का था। 
एस.एन.लाल
प्रतिवर्ष निर्यात की मात्रा क्रमशः 1850000, 1850000, 1385000 और 1120000 मीट्रिक टन है। वल्र्ड ट्रेड आर्गेनाईजेशन की फरवरी, 2018 की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत ने बीफ निर्यात के क्षेत्र में वर्ष 2006 से 2016 के बीच बहुत तरक्की कर ली। ए.पी.ई.डी.ए. के अनुसार भारत ने पिछले साल 2019-20 में करीब 26,383.99 करोड़ रुपये का मांस निर्यात किया था, जिसमें से बफैलो मीट करीब 22668.47 करोड़ रुपये, भेड-बकरी का मांस करीब 646.69 करोड़ रुपये और पॉल्ट्री उत्पाद करीब 574.58 करोड़ रुपये का था। सूअर आदि अन्य जानवरों के मीट का निर्यात करीब 16.32 करोड़ रुपये का हुआ।
बीफ मांस का निर्यात करने वाले देशों की सूची में भारत अपने शीर्ष स्थान पर कायम है। अमेरिका के कृृषि विभाग के डेटा के मुताबिक भारत ने दूसरे सबसे बीफ निर्यातक देश ब्राजील से काफी आगे है।
एस.एन.लाल

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
2 + 1 =