۱۴ تیر ۱۴۰۱ |۵ ذیحجهٔ ۱۴۴۳ | Jul 5, 2022
تصاویر / چهارمین همایش ادبی و آئینی تبسم صبر

हौज़ा/ हज़रत इमाम मोहम्मद बाकिर अलैहिस्सलाम ने एक रिवायत में दीनी भाई का सामना मुस्कुरा कर करने कि ताकिद कि हैं।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार , इस रिवायत को " बिहारूल अनवार" पुस्तक से लिया गया है। इस कथन का पाठ इस प्रकार है:

قال الامام الباقر علیہ السلام

تَبَسُّمُ الرَّجُلِ في وَجهِ أخيهِ المُؤمِنِ حَسَنَةٌ


हज़रत इमाम मोहम्मद बाकिर अलैहिस्सलाम ने फरमाया:


मोमिन भाई के सामने मुस्कुराना भी नेकी (भालाई)हैं।
बिहारूल अनवार,भाग 74,पेंज 288

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
1 + 16 =