۴ بهمن ۱۴۰۰ |۲۰ جمادی‌الثانی ۱۴۴۳ | Jan 24, 2022
विमोचन

हौज़ा / अल्लामा सैयद इर्तज़ा हुसैन नकवी द्वारा लिखित किताब "जेहाते आज़ादारी" का नजफ़ अशरफ़ इराक के मदरसा अस्सेरातुल मुस्तक़िम में रस्मे इज्रा किया गया।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, अल्लामा सैयद इर्तज़ा हुसैन नकवी द्वारा लिखित किताब "जेहाते आज़ादारी" का नजफ़ अशरफ़ इराक के मदरसा अस्सेरातुल मुस्तक़िम में रस्मे इज्रा किया गया। बैठक पवित्र कुरान के पाठ के साथ शुरू हुई जिसमें नसरुल्ला मेहदी नजफी ने कुरान की तिलावत की। उसके बाद हुज्जतुल इस्लाम मौलाना अब्दुल्लाह ग़रवी ने अजादारी के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इस प्रकार के विषयो की हर ज़माने आवश्यकता है क्योंकि यज़ीदी चरित्र और उत्पीड़न अभी भी समाजों में मौजूद है, इसलिए यह अजादारी और रूहे अजादारी  (इमाम हुसैन का उद्देश्य) मानवता को बचा सकती है।

उद्घाटन समारोह में नजफ अशरफ के विद्वानों और विद्वानों ने बड़ी संख्या में भाग लिया। जिनमे मौलाना आबिस खान नजफी, मौलाना दायम नजफी, मौलाना शहरयार नजफी, मौलाना मासूम महदी नजफी, मौलाना फरमान नजफी, मौलाना नजीर नजफी, मौलाना दिलावर नजफी उल्लेखनीय हैं।

रस्मे इज्रा समारोह के बाद, मसाइब सैय्यदुश्शोहदा हज़रत इमाम हुसैन (अ.) हुज्जतुल इस्लाम मौलाना दायम नजफी साहब किबला ने बयान फरमाए किताब कुरान और अहलेबैत (अ.स.) की ओर से हजरत इमाम रजा (अ.स.) के तत्वावधान नजफ अशरफ में प्रकाशित हुई थी।

अंत में, हुज्जतुल इस्लाम वल मुस्लेमीन सैयद मोहम्मद मेहदी जैदी साहब, मदरसा सीरत-उल-मुस्तकीम के निदेशक और इमाम अली रज़ा (अ.) मौलाना सैयद रज़ी हैदर साहब ने पुस्तक के महत्व के लिए ईरान कल्चर हाउस, दिल्ली को धन्यवाद दिया। और जिन शायरों ने किताब में इमाम हुसैन (अ.स.) की सेवा के लिए समर्पित शायरी पेश की हैं, उनमें नजम आफ़ंदी, नज़ीर बाक़री, वाजिद अली शाह अख्तर, सैयद रज़ा अली दैम नज़फ़ी, सैयद तहरीर अब्बास नज़फ़ी, सैयद शहरयार हुसैन नजफी, सैयद बाबर हुसैन काजमी, सैयद मुहम्मद हैदर फंदिरवी के नाम उल्लेखनीय हैं। उसके बाद मदरसों के सभी उपस्थित लोगों और छात्रों ने नजफ अशरफ को धन्यवाद दिया और अपना भाषण पूरा किया। पुस्तक का पीडीएफ पाठकों की सेवा में उपलब्ध है।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
8 + 1 =