۱۱ تیر ۱۴۰۱ |۲ ذیحجهٔ ۱۴۴۳ | Jul 2, 2022
मक़ामे रासुल हुसैन

इमाम हुसैन (अ.स.) के सरे मुबारक से तिलावते कुरआने मज़ीद का वाक़ेआ


 

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी! शेख़ मुफ़ीद की किताब इरशाद में वर्णित है कि ज़ैद बिन अरक़म बताते हैं कि इब्ने ज़ियाद के दरबार में मज़लूमे कर्बला का मुकद्दस सर मेरे पास से गुजरा जो भाले की नोक पर सवार था जब मैं अपनी जगह पर बैठा था पास से गुजरते हुए, वह कुछ पढ़ रहा था। मैंने ध्यान से सुना और वह सूरह अल-कहफ की नौवीं आयत पढ़ रहा था:ام حسبت ان اصحاب الکھف والرقیم کانو من ایا تنا عجبا " अम हसिब्ता अन्ना अस्हाबल कहफे वर रक़ीमे कानू मिन आयातेना अजबा क्या आप यह ख़्याल करते है कि अस्हाबे कहफ और रकीम (ग़ार और कुत्ते वाले) हमारी ताअज्जुब के क़ाबिल निशानीयो मे से थे। " मैं अल्नलाह कसम खाता हूं, मैं यह दृश्य देखकर लरज़ गया और ऊंचे स्वर में कहा कि पैगंबर के पुत्र आपका सर गुफा के साथियों की तुलना में अधिक आश्चर्यजनक और अद्भुत है।

इमाम हुसैन (अ.स.) के धन्य सिर से तिलावत का दूसरा वाक़ेआ हारान में पेश आया।
कूफ़ा से सीरिया जाने के रास्ते में, हुर्रियत कारवां हारान नामक स्थान पर पहुँचा, जिसके ऊपर याह्या खज़ई नाम के एक यहूदी का घर था। वह स्वागत के लिए आया और बंदियों का तमाशा देखने लगा और उसकी नज़र हज़रत इमाम हुसैन के धन्य सिर पर पड़ी। उसने देखा कि उसके धन्य होठों से एक आवाज़ आ रही थी। कुरान की तिलावत थी: यह दृश्य देखकर याह्या चौंक गए और परेशान हो गए उन्होंने पूछा, "यह किसका सिर है?" उन्होंने कहा हुसैन बिन अली का। यहूदी ने कहा कि अगर उसका धर्म सत्य नहीं होता, तो यह चमत्कार उसे बिल्कुल भी नहीं दिखाई देता। उसने यह कहा और कलमा पढ़कर मुसलमान बन गया।

शायरे अहलेबैत रिज़्क़ुल्लाह बिन अब्दुल वहाब अल जुब्बाई इमाम हुसैन (अ.स.) के बारे मे कहते है किः

رأسُ ابن بنت محمّدٍ ووصيّه/للناظرين على قناةٍ يُرفَعُ
والمسلمون بمسمعٍ وبمنظرٍ/ لا منكرٌ منهم ولا مُتفجِّعُ
كحلتْ بمنظرِك العيونُ عمايةً/ وأصمّ رزؤُك كلّ أذنٍ تَسمَعُ
أيْقظْتَ أجفاناً وكُنتَ لها كرىً/ وأنمتَ عَيْناً لم تكنْ بِكَ تَهجَعُ
ما روضةٌ إلّا تمنّت أنّها/ لك تربةٌ ولخطّ قبرِك مَضجَعُ

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
4 + 7 =