۲۸ مرداد ۱۴۰۱ |۲۱ محرم ۱۴۴۴ | Aug 19, 2022
मौलाना सलमान नदवी

हौज़ा / 700 से अधिक देवबंदी विद्वान जिन्होंने भारत और पाकिस्तान से अध्ययन और स्नातक किया है, वे सभी ज़ाहेदान में रहते हैं। 52 गुंबद की मस्जिद मक्की जो नए सिरे से बहुत ही शानदार मस्जिद बनाई जा रही है। किसी भी प्रकार की अहलेसुन्नत भाइयों की कोई सीमा नहीं है, जैसा कि खुरासान में सभी सुन्नी विद्वानों ने आपके साथ अपनी बैठक में कहा था कि इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान ने हमें नेमत दी है। क्रांति से पहले तुर्बत जाम में केवल 3 मस्जिदें थीं आज 30 मस्जिदे है। पूरे खुरासान प्रांत मे जहा 25 से 30 मस्जिदें हुआ करती थी आज 1000 से अधिक मस्जिदे है।

हौज़ा न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, एकता सप्ताह के अवसर पर पवित्र पैगंबर (स.अ.व.व.) के जन्म के अवसर पर, ईरान के तेहरान में विश्व इस्लामी बुजुर्गों और महान विद्वानों की एक सभा आयोजित की गई, जिसमें इन विद्वानों ने संदेश दिया। पूरी दुनिया को पैगंबर मुहम्मद की दया का मानवीय संदेश सैयद अहमद शहीद लखनऊ विश्वविद्यालय के संस्थापक श्री सैयद सलमान हुसैनी नदवी ने जहां अहले सुन्नत की स्थिति को भी करीब से देखा। उन्होंने उन सभी को एकता, शांति और सुरक्षा का संदेश दिया।

गौरतलब है कि ज़ाहेदान शहर की मक्की मस्जिद, जो ईरान की सबसे बड़ी सुन्नी मस्जिद है, लगभग एक गुम्बद बन गई है। बुखारी और मुस्लिम किताब देखने आए छात्रों ने करीब एक घंटे तक बात की और विषय था "कैसे" क्या कोई मुसलमान पश्चिमी सोच के खिलाफ खुद को तैयार कर सकता है और इस्लाम धर्म की रक्षा कर सकता है।"

उल्लेखनीय है कि 700 से अधिक देवबंदी विद्वान जिन्होंने भारत और पाकिस्तान से अध्ययन और स्नातक किया है, वे सभी ज़ाहेदान में रहते हैं। 52 गुंबद की मस्जिद मक्की जो नए सिरे से बहुत ही शानदार मस्जिद बनाई जा रही है। किसी भी प्रकार की अहलेसुन्नत भाइयों की कोई सीमा नहीं है, जैसा कि खुरासान में सभी सुन्नी विद्वानों ने आपके साथ अपनी बैठक में कहा था कि इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान ने हमें नेमत दी है। क्रांति से पहले तुर्बत जाम में केवल 3 मस्जिदें थीं आज 30 मस्जिदे है। पूरे खुरासान प्रांत मे जहा 25 से 30 मस्जिदें हुआ करती थी आज 1000 से अधिक मस्जिदे है।

गौरतलब है कि मौलाना सैयद सलमान हुसैनी नदवी ने 19 अक्टूबर को तेहरान में  राष्ट्रपति भवन में ईरानी राष्ट्रपति सैयद इब्राहिम रईसी से मुलाकात की थी। उनके राष्ट्रपति चुने जाने पर मुबारक बाद देते हुए कहा कि आप जैसे न्यायाधीश का ईरान का राष्ट्रपति चुना जाना महत्वपूर्ण है आपके अंदर मौला अली इब्ने अबी तालिब के फैसलो की झलक पाई जाती है। आपके पूर्वज इस्लामी जगत के सबसे महान विद्वान और न्यायाधीश थे।

मौलाना ने अपने बयान में बेहद अहम सलाह भी दी और इस बात पर भी जोर दिया कि इंशाअल्लाह इस्लामी दुनिया का नेतृत्व और संप्रभुता जल्द ही ईरान के हाथों में होगी।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
4 + 4 =