۷ خرداد ۱۴۰۱ |۲۶ شوال ۱۴۴۳ | May 28, 2022
मौलाना शम्अ हैदर रिजवी

हौज़ा / इस्लामी क्रांति के संस्थापक इमाम खुमैनी ने अपनी तवानाइया सर्वोच्च नेता आयातुल्लाह ख़ामेनई के रूप मे समाज मे प्रस्तुत की, इसलिए इमाम ख़ुमैनी के हर चाहने वाले को लब्बैक या ख़ामेनई कहते हुए इस मिशन को आगे बढ़ाना होगा।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, हुज्जतुल इस्लाम वल मुस्लेमीन मौलाना सैयद शमा मोहम्मद रिजवी, हौजा-ए-अलीमिया आयातुल्लाह ख़ामेनई के संस्थापक ने कहा कि हर युग में मानवता की दुनिया की समस्याओं का समाधान भाईचारे में निहित है। वो लोग कितने भाग्यशाली है जोकि हजरत रसूल अकरम (स.अ.व.व.) और हजरत इमाम जाफर सादिक (अ.स.) के जन्म दिवस के अवसर पर दिल, जान और धन का बलिदान करते हैं। निश्चित रूप से, यह प्रोत्साहन हजरत खदीजा से सभी को मिला है, जिन्होंने अपनी सारी पूंजी इस्लाम के पैगंबर (स.अ.व.व.) पर ईमान लाकर धर्म के हवाले कर दी आज, इस्लाम धर्म हजरत खदीजा के कारण है।

देश की समस्याऔ का समाधान हमेशा एकजुट रहने से ही होगा, मौलाना शमा मोहम्मद रिजवी

उन्होंने कहा कि हजरत खदीजा इमाम खुमैनी के दिलों में प्रेरित थे, जिन्होंने महान सरकार की स्थापना के बाद बड़े परिश्रम के साथ महान कार्य किए, जिनमें से एकता सप्ताह का कार्यक्रम है। इमाम खुमैनी के परिवार ने इस जागृति और एकता को जीवित रखा है और इस दुश्मन के षडयंत्रों को विफल करने के लिए अथक परिश्रम किया। क्यों न हो? इसलिए इमाम खुमैनी ने अपनी तवानाइया सर्वोच्च नेता आयातुल्लाह ख़ामेनई के रूप मे समाज मे प्रस्तुत की, इसलिए इमाम ख़ुमैनी के हर चाहने वाले को लब्बैक या ख़ामेनई कहते हुए इस मिशन को आगे बढ़ाना होगा।

देश की समस्याऔ का समाधान हमेशा एकजुट रहने से ही होगा, मौलाना शमा मोहम्मद रिजवी

और ऐसा कब होगा? एक समय आएगा जब आपको अपने अहंकार का त्याग करना होगा और स्वार्थ से दूर होकर मानवता के स्तर पर सभी मतभेदों को दफनाना होगा, क्योंकि जीवन का आनंद धर्म के लिए एकेश्वरवाद के लिए हर समय जागना है। 

वक्ताओं ने कहा कि एकता और एकजुटता का यह आह्वान कोई आसान रास्ता नहीं है लेकिन खून और पसीने को मिलाना पड़ता है। उन्हें रास्ते में कदम रखना पड़ा, सच्चाई से वंचित रहना पड़ा, लेकिन इस्लामी दुनिया के शीराज़े को बिखरने से बचाया और जोर दिया यह पैगंबर के निधन के बाद इस्लामी एकता का नया इतिहास? इसलिए, मुहम्मद और मुहम्मद (स.अ.व.व.) के परिवार के नक्शेकदम पर चलना हमारे लिए अच्छाई और मोक्ष का स्रोत है।

उन्होंने कहा, "आइए इमाम खुमैनी से मिलते हैं और कहते हैं कि आपकी मेहनत रंग लाई है। आज दुनिया में बदकिस्मत बीमारी की शुरुआत के बाद भी, एकता सप्ताह कार्यक्रम बहुत धूमधाम और समारोह के साथ मनाया जा रहा है। वह है एकता के शीर्षक के तहत गतिविधियों में लगे हुए हैं। उन्होंने दिन को दिन नहीं माना, उन्होंने रात को रात नहीं माना। इस खुशी के उत्सव की घोषणा करने में क्या खुशी है।

देश की समस्याऔ का समाधान हमेशा एकजुट रहने से ही होगा, मौलाना शमा मोहम्मद रिजवी

कुछ विचारकों का कहना है कि कुरान के आदेश और खतम-उन-नबाईन की सुन्नत की आवश्यकता है कि उम्मते मोहम्मदी की एकता और एकजुटता के लिए काम किया जाए और वर्तमान मोहक और कठिन परिस्थिति में, शांति का मार्ग प्रेम, सहिष्णुता, सहनशीलता और सहनशीलता को अपनाया जाना चाहिए ताकि मुस्लिम उम्माह में सांप्रदायिक मतभेदों और विभाजन को दूर करने का मार्ग अपनाकर हम ब्रह्मांड के निर्माता और मानवता के उद्धारकर्ता, दुनिया की दया का आनंद प्राप्त कर सकें। ख़ातेमुल मुरसलीन (स.अ.व.व.) और हज़रत इमाम जाफ़र सादिक (अ.स.) के जन्म का जश्न मनाने के लिए, सभी को सीरते मुहम्मद और आले मोहम्मद की आज्ञाओं का पालन करना चाहिए और अपने व्यक्तिगत, सामूहिक, आध्यात्मिक, धार्मिक और सांसारिक समस्याएं। कुरान की शिक्षाओं के लिए, हमें पवित्र पैगंबर (स.अ.व.व.) की जीवनी का उपयोग करना होगा क्योंकि जो लोग उनकी शिक्षाओं का पालन नहीं करते हैं वे लगातार दुख और पीड़ा में हैं। इसे संभव बनाएं ।

अंत में, उन्होंने कहा कि पैगंबर (स.अ.व.व.) और पैगंबर के नवासे के लिए प्यार की आवश्यकता उनकी खुशियों में आनन्दित होना और उनके दुख के दिन मे  दुख को व्यक्त करना है। ।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
2 + 3 =