۱۴ تیر ۱۴۰۱ |۵ ذیحجهٔ ۱۴۴۳ | Jul 5, 2022
मौलाना

हौज़ा/हौज़ा ए इल्मिया के संचार और अंतर्राष्ट्रीय मामलों के प्रमुख ने कहां:आलमें इस्लाम की हैसियत से हम अपनी सभ्यता और संस्कृति को प्रस्तुत करने में सक्षम हैं।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार ,शिराज़/हुज्जतुल इस्लाम वालमुस्लिमीन सैय्यद मुफीद हुसैनी कोहसारी ने शिराज़ में शहीद दस्तगीब हॉल में आयोजित "अंतर्राष्ट्रीय कोचिंग प्रशिक्षण पाठ्यक्रम" का उद्घाटन किया उसके बाद लोगों को संबोधित करते हुए कहा:13 अबान अमेरिका के साथ अहंकार और प्रतिद्वंद्विता का दिन है।
उन्होंने दौरे हाज़िर में हौज़ाये इल्मिया के जिम्मेदारी की ओर इशारा करते हुए कहा:अगर हमें अपना कर्तव्य निभाना है, तो शायद सबसे महत्वपूर्ण और बुनियादी बात यह जानना है कि हम किन परिस्थितियों में और किस दुनिया में रह रहे हैं।


हौज़ाये इल्मिया के संचार और अंतर्राष्ट्रीय मामलों के प्रमुख:यदि हम चंद शब्दों में आधुनिक दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता का वर्णन करना चाहते हैं, तो हमें सर्वोच्च नेता के इन शब्दों का उपयोग करना चाहिए।वह फरमाते हैं,
हम इतिहास के ऐसे मोड़ पर हैं जहां इतिहास का धारा बदल रहा है।
हुज्जतुल इस्लाम वालमुस्लिमीन हुसैनी कोहसारी ने कहा: सर्वोच्च नेता के फरमान का नतीज़ा यह है। कि हम वर्तमान में एक वैश्विक परिवर्तन का सामना कर रहे हैं।इस जटिल बिंदु की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि वर्तमान में विश्व सभ्यता विभिन्न परिवर्तनों के दौर से गुज़र रही है।
और याद रखें कि किसी भी सभ्यता का परिवर्तन उस तरह नहीं होता है, बल्कि उस सांस्कृतिक परिवर्तन को होने में लगभग 50 से 100 वर्ष लगते हैं।
हौज़ाये इल्मिया के संचार और अंतर्राष्ट्रीय मामलों के प्रमुख ने आगे कहा:आज मनुष्य की सबसे गंभीर और महत्वपूर्ण मांगों में से एक है राजनीति और धर्म का मेल।इसके लिए इंसानों ने कुछ नियम बनाए हैं। जिस नियम पर चलकर इंसान बुलंदी तक पहुंच सकता है और अपने हदफ को हासिल कर सकता है।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
4 + 0 =