۲۹ دی ۱۴۰۰ |۱۵ جمادی‌الثانی ۱۴۴۳ | Jan 19, 2022
विरोध सभा

हौज़ा / वक्ताओं ने कहा कि दुश्मन और आरएसएस ने मुसलमानों को दूसरों से अलग करने और उन्हें यह एहसास दिलाने के लिए कार्य योजना तैयार की है कि हमें आपकी जरूरत नहीं है। इससे 5% हिंदुओं में एकता पैदा होगी। साथ ही मुसलमानों को आर्थिक और सामाजिक रूप से बहिष्कार करना होगा और तीसरा कदम इनाम देना होगा।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, ईरान के धार्मिक नगर क़ुम / शापित धर्मत्यागी वसीम के न्यायपूर्ण और शांतिप्रिय कार्यों खुली नफरत और घृणा व्यक्त करने के लिए भारतीय छात्रो और विद्वानो द्वारा ईरान के धार्मिक नगर क़ुम के मदरसा ए हुज्जतिया मे "विरोध सभा" आयोजित की गई । मौलाना सैयद जवाद रिजवी द्वारा पवित्र कुरान के पाठ के साथ विरोध सभा शुरू हुई। उसके बाद मौलाना काशिफ रजा साहब ने नात रसूल मकबूल पेश किया। काशिफ साहब के खूबसूरत नात कलाम के बाद सभा के संचालक मौलाना शमीम रजा साहब ने इस्लामोफोबिया का जिक्र किया और इसी विषय पर मौलाना मुहम्मद हुसैन सूरतवाला ने संबोधित किया।

मौलाना ने "भारत में इस्लामोफोबिया की स्थिति" पर एक प्रस्तुति दी। आपने कहा था कि कुछ लोग इस विषय पर सोच सकते हैं कि क्या अपमान की छोटी-छोटी घटनाओं को पूरे भारत के लिए समस्या बना देना कोई बड़ी बात नहीं है। इस सवाल का जवाब देते हुए मौलाना ने कहा कि हम जिस समाज में रहते हैं, वहां गैर-मुसलमानों से संपर्क होता है, वहां शांतिपूर्ण जीवन होता है। क्या हमारे समाज में इस्लामोफोबिया नाम की बीमारी है? समाज को करीब से देखने से पता चलता है कि इस्लामोफोबिया और इस्लामोफोबिया को शक्तिशाली लॉबी के समर्थन से योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दिया जा रहा है। भारत की आजादी से पहले भी इस्लाम को प्रताड़ित किया गया था, लेकिन पिछले कुछ सालों में यह और तेज हो गया है।

मौलाना ने इस्लाम उत्पीड़न के 6 तत्वों का वर्णन किया:
1-मुसलमानों का अपमान करना, 2-इस्लामी पवित्रता का अपमान करना, 3- मुसलमान होने के कारण शारीरिक रूप से चोट पहुंचाना, 4- धर्म के नाम पर भेदभाव करने के लिए राजी करना, 5- भविष्य को डराना, 6- मुसलमान को डराना और पराया करना।

मौलाना मुहम्मद हुसैन सूरत वाला साहब ने इन तत्वों का वर्णन करके प्रत्येक तत्व के नीचे इसका अर्थ समझाया और कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ये तत्व हमारे समाज में पाए जाते हैं लेकिन यह कहा जा सकता है कि भारत में इस्लाम उत्पीड़न परियोजना शक्तिशाली लोगो के समर्थन से किया जा रहा है। एक बार जब हम इसके प्रति आश्वस्त हो जाते हैं, तो हम इस पर विचार करेंगे और इसका मुकाबला करने का तरीका खोजेंगे।

इसके बाद माननीय संचालक ने मौलाना सैयद अकिफ जैदी को "न्यायपालिका की भूमिका और साख की अवमानना पर हमारी अपेक्षाएं" शीर्षक से भाषण देने के लिए आमंत्रित किया। मौलाना अकिफ जैदी ने इस सवाल के साथ अपनी बात शुरू की: ईशनिंदा के संबंध में हमें न्यायपालिका से क्या उम्मीद करनी चाहिए और उचित प्रतिक्रिया पाने के लिए क्या रणनीति अपनाई जानी चाहिए? सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि न्यायपालिका की प्रतिक्रिया निम्नलिखित कारकों पर आधारित है:
पहला तत्व कानून है। भारत में ऐसे कानून हैं जिन पर न्यायपालिका आगे बढ़ सकती है।
दूसरा पहलू: क्या न्यायपालिका के लिए जिम्मेदार तरीके से जवाब देना जरूरी है? इसका उत्तर यह है कि जब मामला आपराधिक हो तो न्यायपालिका ही आ सकती है। जनता के लिए एफआईआर दर्ज करना जरूरी नहीं है।

तीसरा तत्व: पूर्व। न्यायपालिका के फैसलों में यह बहुत महत्वपूर्ण है कि ऐसे मामलों में पहले किस तरह के फैसलों की घोषणा की जा चुकी है? भारत में उन फैसलों की एक लंबी सूची है जिनमें न्यायपालिका ने ईशनिंदा के खिलाफ फैसला सुनाया है। इनमें भारत सरकार द्वारा सलमान रुश्दी की किताब पर प्रतिबंध लगाना, एक अखबार के संपादक को मुसलमानों की पवित्रता का अपमान करने के आरोप में गिरफ्तार करना और न्यायपालिका द्वारा इसे वैध घोषित करना शामिल है। लेकिन जाहिर है कि इन तत्वों का होना ही काफी नहीं है। मौजूदा माहौल और सत्ता का संतुलन न्यायपालिका को कोई बड़ा कदम उठाने की इजाजत नहीं देता है। हमें न्यायपालिका से क्या उम्मीद करनी चाहिए? हमें यह उम्मीद नहीं करनी चाहिए कि ईशनिंदा के मामले में न्यायपालिका अपने आप कोई बड़ा कदम उठाएगी। हालांकि, हमें निराश नहीं होना चाहिए। अब ऐसे अवसर हैं जिनका उपयोग हम न्यायपालिका में इन तत्वों को मजबूत करने के लिए कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि इस मुद्दे के खिलाफ हर जिले से प्राथमिकी दर्ज की जाती है, तो निश्चित रूप से न्यायपालिका को फैसला देने के करीब लाया जा सकता है।

आकिफ जैदी साहब के भाषण के बाद मौलाना मुहम्मद अस्करी खान साहब ने शापित वसीम की निंदा करते हुए अशआर पेश किए। इस दौरान प्रतिभागियों ने तकबीर, लबीक या रसूलुल्लाह और वसीम मलऊन है मलऊन है के नारे लगाए।

उसके बाद, संचालक साहब ने मौलाना अब्बास मेहदी हसनी साहब को "हिंदू बुद्धिजीवियों की नजर में हज़रत मुहम्मद (स.अ.व.व.)" विषय पर एक शोध प्रबंध पढ़ने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि सर्वशक्तिमान ईश्वर ने दुनिया के लिए दया के रूप में केवल पवित्र पैगंबर (स.अ.व.व.) को भेजा जिन्होंने प्रेम और मानवाधिकारों का संदेश दिया। सर्वशक्तिमान ईश्वर ने आपको महमूद की स्थिति में स्थापित किया है और उसकी प्रशंसा की है। यदि कोई पैगंबर की प्रशंसा करता है, तो यह दर्शाता है कि उसका विवेक जीवित है। इसके बाद उन्होंने स्वामी बुर्ज नारायण सन्यासी, कल्कि अवतार के लेखक पंडित वीर प्रकाश उपाध्याय, स्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य और गांधीजी आदि जैसे कुछ बुद्धिजीवियों के बयान प्रस्तुत किए जिनमें उन्होंने पैगंबर मुहम्मद की महानता का वर्णन किया। उसके बाद मौलाना सैयद शफी रिजवी भेकपुरी साहिब ने विरोध कविताएं सुनाईं।

बाद में विरोध सभा के संचालक ने कहा, ''रिसालत के अपमान के कारक और उनके निवारण'' के विषय पर प्रकाश डालने के लिए मौलाना सैयद नजीब-उल-हसन जैदी साहिब को आमंत्रित किया गया। मौलाना नजीब-उल-हसन ने सूरह सफ की आयत न. 7 को भाषण का शीर्षक घोषित करते हुए कहा कि कुछ लोग अल्लाह के प्रकाश को प्रहार से बुझाना चाहते हैं लेकिन अल्लाह अपने प्रकाश को पूरा करना चाहता है चाहे वह काफिरों को कितना भी नाराज कर दे। अपमान के कारणों और उद्देश्यों के बारे में बताते हुए मौलाना ने कहा कि अज्ञानता, पूर्वाग्रह, आधिपत्यपूर्ण इरादे, दूसरों की अवमानना, भय आदि ऐसे अपमान के कारण हैं। अपमान का मुद्दा अलग है। अपमान के हालिया मुद्दे को देखने की जरूरत है राष्ट्रीय राजनीति के संदर्भ में। उदाहरण के तौर पर ये सभी कारक और कुछ अन्य चीजें हो सकती हैं। वह: भारत में रहने वाले सभी अल्पसंख्यकों को स्थानीय रीति-रिवाजों और प्रथाओं को अपनाना होगा और मुसलमानों को अभी भी उसी शैली को अपनाना होगा। यदि वे अपनी शैली नहीं बदलते, स्पेन का इतिहास दोहराया जाएगा।

एक अन्य अवसर पर, उन्होंने उसी व्यक्ति को यह कहते हुए उद्धृत किया, "यदि मुसलमान खुद को नहीं बदलते हैं और अपनी धार्मिक पहचान से चिपके रहते हैं, तो हम वही करेंगे जो हिटलर ने किया था।"

मौलाना ने आगे कहा कि ये शब्द किसी सामान्य व्यक्ति के नहीं हैं बल्कि ये शब्द उस महत्वपूर्ण व्यक्ति के हैं जिसे वर्तमान सरकार के महत्वपूर्ण व्यक्तित्व गुरु मानते हैं।मौलाना ने आगे कहा कि लगातार अपमान का कारण यह है कि उनका कहना है कि भारत एक विकसित देश था जिसे मुसलमानों ने नष्ट कर दिया था। हमें इसका पुनर्वास करना होगा ताकि हमें एकजुट होना पड़े और एकजुट होने का सबसे अच्छा तरीका नफरत की धुरी पर एकजुट होना और बदले की बात करना है। उन्होंने आगे कहा कि दुश्मन ने इसके लिए कार्ययोजना तैयार की। एक वैचारिक संगठन के बारे में एक पत्रकार का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इन लोगों के पास मुसलमानों के लिए तीन कदम हैं: पहला कदम मुसलमानों को दूसरों से अलग करना और उन्हें यह एहसास दिलाना है कि हमें आपकी जरूरत नहीं है। इससे 5% हिंदुओं में एकता पैदा होगी। दूसरा चरण मुसलमानों का आर्थिक और सामाजिक रूप से बहिष्कार करना है और तीसरा चरण इनाम देना है। उन लोगों को पुरस्कार दिया जाएगा जो उनके रंग से रंगेंगे और उनके हाव-भाव का पालन करेंगे
लेकिन दुश्मन का ध्यान इस बात पर नहीं जाता है कि मुसलमानों में ऐसे भी लोग हैं जो तकबीर का नारा लगाते हुए किसी भी देवता के अस्तित्व को नकारते हैं और कर्बला से संदेश लेते हैं और "हयहात मिन्न अल जिल्ला" के नारे को अपनाते हैं।

इस मौके पर विरोध सभा के प्रतिभागीयो ने "हयहात मिन्न अल जिल्ला" के नारे लगाए। मौलाना ने कहा कि हमें ईशनिंदा के मुद्दे पर और साथ ही उत्पीड़न के अवसरों पर बोलना है चाहे वह त्रिपुरा में उत्पीड़न हो या कश्मीर में उत्पीड़न। ईशनिंदा पर बोलना हमारे विश्वास की निशानी है लेकिन अगर जुल्म होता है और हम चुप रहते हैं, तो ये शिक्षाएं पैगंबर के साथ विश्वासघात हैं।

उसके बाद मौलाना सैयद शमा मोहम्मद रिजवी ने बड़े उत्साह के साथ विरोध दर्ज कराया। उसके बाद सभा के अंतिम वक्ता मौलाना सैयद मुराद रजा रिजवी को बोलने के लिए आमंत्रित किया गया। मौलाना मुराद रजा साहब ने कहा कि जो कोई पैगंबर (स.अ.व.व.) की महिमा का अपमान करेगा, वह आने वाला समय उसके अस्तित्व को नष्ट कर देगा। जो कोई भी पैगंबर (स.अ.व.व.) के सम्मान का अपमान करेगा, उसे हर हाल में जला दिया जाएगा। इस शातिम रसूल ने अपनी सजा खुद तय की है। क्या करे? इस सवाल का जवाब देते हुए मौलाना ने कहा कि हमें कुछ ऐसा करना चाहिए जिससे दुश्मन की साजिश नाकाम हो जाए। यह हमेशा से हमारा तरीका रहा है। इसलिए मौजूदा माहौल में हम ऐसा कुछ भी नहीं करेंगे जिससे उपद्रवियों को फायदा हो। हम सिर्फ उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग करेंगे। हमारी सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी वह करना है जिससे दुश्मन नाराज हो जाए। यदि हम अपनी योजना नहीं बनाते हैं, तो यह विरोध विफल हो जाएगा, तो आइए हम गैर-मुस्लिम बुद्धिजीवियों के बयान और कवियों की कविताओं को सार्वजनिक करें।

सभा के अंत में, श्री साजिद रिज़वी ने भारत सरकार, न्यायपालिका मुसलमानों और भारत के क़ुम में रहने वाले छात्रों की ओर से सभी भारतीयों को संबोधित किया हुज्जतिया मस्जिद का पूरा हॉल एकेश्वरवादी नारों से गूंज उठा।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
3 + 2 =