۷ خرداد ۱۴۰۱ |۲۶ شوال ۱۴۴۳ | May 28, 2022
ज़कज़ाकी

हौज़ा/मुसलमानों का मानना हैं कि मनुष्यों में किसी भी धर्म, रंग, जाति या राष्ट्र का हों,भगवान के यहां इनकी इज्ज़त है और उन्हें समान अधिकार मिलने चाहिए।लेकिन सबसे स्पष्ट बात यह है कि विशिष्ट अंतर्राष्ट्रीय राजनीतिज्ञों के आदेश पर मानवाधिकारों की बलि दे दी गई है।इससे राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकार अंतरराष्ट्रीय कानून के कार्यान्वयन को क्षति पहुंची है।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार ,अबुजा/विश्व मानवाधिकारों के पक्ष में नाइजीरियाई मुस्लिम वकीलों का एक प्रतिनिधिमंडल ने शेख़ इब्राहिम ज़कज़ाकी से मुलाकात की इस मुलाकात के दौरान विभिन्न मुद्दों पर विचार और चर्चा कि ब्यौरों के अनुसार बैठक के दौरान, वकीलों और अधिवक्ताओं ने वैश्विक मानवाधिकारों के अनुरूप मानव अधिकारों के संगठनों को निशाना बनाया है।


उन्होंने कई एशियाई और अफ्रीकी इस्लामी देशों में मानवाधिकार संगठनों के खुले उल्लंघन का भी उल्लेख किया है।
इस्लामी आन्दोलन के नेता शेख़ इब्राहिम ज़कज़ाकी ने वकीलों के आने पर उनका आभार व्यक्त किया और कहां कि मुसलमानों का मानना हैं कि मनुष्यों में किसी भी धर्म, रंग, जाति या राष्ट्र का हों,भगवान के यहां इनकी इज्ज़त है और उन्हें समान अधिकार मिलने चाहिए।लेकिन सबसे स्पष्ट बात यह है कि विशिष्ट अंतर्राष्ट्रीय राजनीतिज्ञों के आदेश पर मानवाधिकारों की बलि दे दी गई है।इससे राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकार अंतरराष्ट्रीय कानून के कार्यान्वयन को क्षति पहुंची है।
बैठक के अंत में, नाइजीरियाई वकीलों और शेख़ इब्राहिम ज़कज़ाकी के नेतृत्व में नमाज़ पढ़ी

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
4 + 8 =