۱ خرداد ۱۴۰۱ |۲۰ شوال ۱۴۴۳ | May 22, 2022
मुल्ला सदरा

हौज़ा / मुल्ला सदरा, जहाँ उन्होंने न्यायशास्त्र और सिद्धांतों का पाठ सीखा, हदीस और तफ़सीर का ज्ञान शेख बहाई से प्राप्त किया, वही हिकमते इलाही और हिकमते शर्क़ और ग़र्ब का ज्ञान मीरदामद से लिया और मिल्ल ओ नहल का अध्ययन मीर फ़दरस्की से किया।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, 9 जमादी-उल-अव्वल मुल्ला सदरा, अज़ीम मुस्लिम फ़लसफ़ी और बुजर्ग शिया ईरानी धार्मिक विद्वान का जन्म दिन है। आपने 9 जमादी-उल-अव्वल 979 हिजरी अर्थात सन 1571 ईसवी मे जन्म लिया।

आपका पूरा नाम सदरुद्दीन मुहम्मद बिन इब्राहिम कवाम शिराज़ी है। आपको मुल्ला सदरा और सदरुल मुतल्लेहीन के नाम से जाना जाता है। आपका जन्म ईरान के एक प्रसिद्ध शहर शिराज के मोहल्ला कवाम में हुआ था। आपके पिता ख्वाजा इब्राहीम कवाम एक शिक्षित व्यक्ति और पारस के गर्वनर थे, सदरूद्दीन (मुल्ला सदरा) एक दुआ का फल और आपका एकमात्र बच्चा था।

मुल्ला सदरा ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मोहल्ला कवाम में मुल्ला अहमद से प्राप्त की। उन्होंने इस मदरसे में लेखन, पढ़ना और पवित्र कुरान का अध्ययन किया। फिर मुल्ला अब्दुर रज़्ज़ाक अब्र क़ूई नामक एक पारिवारिक और विशेष शिक्षक के हवाले कर दिया गया ताकि उन्हे व्याकरण पढ़ाए।

शिक्षा के रास्ते में दो बड़ी बाधाओं ने उन्हें प्रवास करने के लिए मजबूर कर दिया, एक मुल्ला अब्दुल रज्जाक अब्र क़ूई की मौत का सदमा और दूसरा शाह तहमासिब सफवी प्रथम की मौत।

शाह तहमासिब प्रथम सफ़वी की मृत्यु और शाह इस्माइल द्वितीय सफ़वी के शासनकाल की शुरुआत के साथ, पूरे शिराज, ईरान शहर में अस्थिरता फैल गई और शहर अराजकता में गिर गया। इब्राहिम को प्रवास करने के लिए मजबूर किया गया और शाह इस्माइल द्वितीय की मृत्यु या शाह अब्बास प्रथम के शासन काल मे अस्थिरता का अंत हुआ तब इब्राहीम अपने परिवार के साथ शिराज लौट आए।

6 साल की आयु में, मुल्ला सदरा अपने पिता के साथ सफ़ावीयो की राजधानी कज़वीन गए और उस समय वह शेख बहाई और मिरदामद से परिचित हुए। जब ईरान की राजधानी इसफहान स्थानांतरित हुई तो आपने भी अपने अध्यापको के साथ इसहफान की यात्रा की।

मदरसा ख्वाजा इस्फहान में, उन्होंने अपने शिक्षकों शेख बहाई, मीरदामद (मोअल्लिमे सालिस) और मीरफंदरस्की के सामने ज़ानुए अदब तय किया और उनका अच्छा इस्तेमाल किया।

मुल्ला सदरा, जहाँ उन्होंने न्यायशास्त्र और सिद्धांतों का पाठ सीखा, हदीस और तफ़सीर का ज्ञान शेख बहाई से प्राप्त किया, वही हिकमते इलाही और हिकमते शर्क़ और ग़र्ब का ज्ञान मीरदामद से लिया और मिल्ल ओ नहल का अध्ययन मीर फ़दरस्की से किया।

आप हिकमते मुतालिआ के संस्थापक हैं। आपकी लिखी किताबो को आपके ज़माने से हज़ार वर्ष पहले की इस्लामी सोच और दृष्टिकोण का एक संग्रह समझा जा सकता है।

एक कथन के अनुसार, मुल्ला सदरा का 1050 हिजरी क़मरी सन 1620 ईसवी मे उनके नाता मोहम्मद अलामुल हुदा इब्ने फ़ैज काशानी के अनुसार आप 1035 हिजरी अर्थात 1635 ईसवी मे इराक के बसरा शहर मे आपका स्वर्गवास हुआ। इराकी अपनी प्रथा के अंतर्गत आपके पार्थिव शरीर को बसरा शहर से नजफ अशरफ ले गए और उनके नाता अलामुल हुदा के कथन अनुसार उन्हे इमाम अली (अ.स.) के हरम के आंगन में दफनाया गया।

इस्लामी गणराज्य ईरान में हर साल, आपको श्रद्धांजलि देने के लिए, मई के अंत में "आपकी पुण्यतिथि" नामक एक कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। इस्लामी गणराज्य ईरान के कैलेंडर मे 22 मई आपसे विशिष्ठ है।

आपके पांच बच्चे थे, तीन लड़कियां और दो लड़के।

1: उम्मे कुलसूम का जन्म वर्ष 1609 ई.।

2: इब्राहीम का जन्म वर्ष 1611 ई.।

3: ज़ुबैदा का जन्म वर्ष 1614 ई.।

4: निज़ामुद्दीन अहमद का जन्म वर्ष 1621 ई.।

5: मासूम का जन्म वर्ष 1623 ई.।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
7 + 0 =