۲۹ اردیبهشت ۱۴۰۱ |۱۷ شوال ۱۴۴۳ | May 19, 2022
मौलाना

हौज़ा/ हिंदुस्तान के इमामबारगाहों में अय्यामें फातेमीया कि तैयारियां शुरू हो गई है और इमामबारगाहें को परचम और बैनर से सजाया जा रहा है,अलजवाद फाउंडेशन कि ओर से किताबें और परचम पहुंचाने की मुहिम जारी हैं।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार ,हिंदुस्तान के इमामबारगाहों में अय्यामें फातेमीया कि तैयारियां शुरू हो गई है और इमामबारगाहें को परचम और बैनर से सजाया जा रहा है, मूल्क के मुसलमान बिनते रसूल का शोक मना रहे हैं और हजरते रसूल स.ल.व.व.को पुरसा पेश कर रहे हैं।


अय्यामें फातेमीया की तहरीक काफी साल पहले मराजये इकराम की ओर से शुरू हुई थी जो आज दुनिया भर में बड़ी तेजी से कामयाब होती नज़र आ रही है,
इस तहरीक को हिंदुस्तान में 2004 से लेकर अभी तक अलजवाद फाउंडेशन ने शुरू किया इस तहरीके की प्रशंसा पूरे मुल्क में हो रही है।
देश की हर बस्ती में किताबें और परचम और खातिबों का इंतजाम करना,और सभी प्रयास जो फातिमा के शोक को बढ़ावा देने में अच्छा साबित हो,इस काम को अलजवाद फाउंडेशन द्वारा किए गए हैं।
अलजवाद फाउंडेशन की ओर से हर बस्ती में अय्यामें फातेमीया का आयोजन किया जा रहा है और लोग बड़ी अकीदत के साथ अय्यामें फातेमीया मना रहे हैं,

अलजवाद फाउंडेशन के जनरल सेक्रेटरी मौलाना सैय्यद मनाज़िर हुसैन नक़वी से हौज़ा न्यूज़ के संवाददाता ने मालूम किया तो मौलाना मनाज़िर हुसैन नक़वी ने बताया अलजवाद फाउंडेशन की तमाम तैयारियां अय्यामें फातेमीया की पूरी कर ली गई है,
अलहमदुलिल्लाह उलेमा इकराम अपनी-अपनी जगहों पर काफी तैयारियों में लगे हैं और लोगों तक यह संदेश पहुंचा रहे हैं अय्यामें फातेमीया भी मुहर्रमुल हराम से कम नहीं है।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
2 + 16 =