۲ خرداد ۱۴۰۱ |۲۱ شوال ۱۴۴۳ | May 23, 2022
आयतुल्लाह वाफी

हौज़ा / हौज़ा ए इल्मिया क़ुम के शिक्षक संघ के सदस्य ने कहा: अगर विद्वानों के ज्ञान का व्यावहारिक परिणाम न हो और वे व्यवहार में इस्लाम और इस्लामी शिक्षाओं को बढ़ावा नहीं देते हैं तो उनके ज्ञान का कोई लाभ नही है। 

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, सहिफा ए सज्जादिया फाउंडेशन के संरक्षक आयतुल्लाह अबुल कासिम वाफी ने इस संस्था के शिक्षकों और शोधकर्ताओं के साथ बैठक में बात करते हुए इमामों (अ.स.) की एकरिवायत की ओर इशारा किया और कहा: ज्ञान के साथ अगर अमल तो भी हो तो इस ज्ञान में प्रगति होती है, अन्यथा ज्ञान वबाल बन जाता है। इसलिए पवित्र कुरान, नहजुल बालागा, सहिफा ए सज्जादिया और फ़िक़्ह और उसुल जैसे विज्ञानों का ज्ञान भी अमल का पूर्वाभास है और अमल ही अल्लाह से कुरबत का मुकदमा है।

आयतुल्लाह वाफी ने सहिफा ए सज्जादिया की शिक्षाओं को बढ़ावा देने पर जोर देते हुए कहा: सहिफा ए सज्जादिया पर अत्याचार होता है। सहिफा ए सज्जादिया की शिक्षाओं को पूरी दुनिया में फैलाने की जरूरत है। सहीफा ए सज्जादिया की दुआओं में कोई शक नहीं है। इस बहुमूल्य पुस्तक की शिक्षाओं के प्रचार-प्रसार में कोई उपेक्षा नहीं होनी चाहिए।

जामेअतुल मुस्तफा अल-अलामिया में कुरान और हदीस विभाग के प्रभारी मुहम्मद हुसैन रफीई ने मुस्तफा विश्वविद्यालय द्वारा साहिफा सज्जादिया की शिक्षाओं को बढ़ावा देने के लिए उठाए गए कदमों की ओर इशारा करते हुए कहा: इस समय जामेअतुल मुस्तफा विश्वविद्यालय मे सहीफा ए सज्जादिया पर पीएडडी हो रही है।

जामेअतुल मुस्तफा अल-अलामिया में कुरान और हदीस विभाग के निदेशक ने कहा: हमें इस बारे में सोचना चाहिए कि धार्मिक स्कूलों और ज्ञान के केंद्रों में पैगंबर मुहम्मद (स.अ.व.व.) के स्तोत्र को कैसे बढ़ावा दिया जाए और इस संबंध मे कौन सी विधि अधिक प्रभावी है।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
6 + 9 =