۲۰ مرداد ۱۴۰۱ |۱۳ محرم ۱۴۴۴ | Aug 11, 2022
हुज्जतुल इस्लाम वल मुस्लेमीन तक़ी क़राअती

हौज़ा / ईरान में मस्जिद संस्थान के निदेशक ने कहा: मस्जिद की संरचना और इसकी अवधारणा पूरी दुनिया में समान है और मस्जिद के बिना धार्मिक समाज की कोई भी समस्या हल नहीं हो सकती है। वैसे तो मस्जिद मे इमामे जमाअत लोगों का इमाम होता हैं, लेकिन असल में वह मस्जिद मे खुदा घर का नौकर होता हैं।

हौजा न्यूज एजेंसी के साथ एक साक्षात्कार में, ईरान में "मस्जिद संस्थान" के निदेशक, हुज्जतुल इस्लाम वल मुस्लेमीन तकी क़राअती ने इशारा किया कि मस्जिद में जाने से बेहतर कोई काम नहीं है : यही कारण है कि हमें इस नेक काम में सबसे आगे रहना चाहिए और अपने नफ्स को बाद में मस्जिद जाने का बहाना नहीं देना चाहिए।

मस्जिद संस्थान के निदेशक ने कहा: मस्जिद में नमाज़ पढ़ने का बड़ा सवाब है और किसी और जगह नमाज़ पढ़ने का सवाब मस्जिद में नमाज़ पढ़ने जैसा नहीं है।

उन्होंने कहा: मस्जिद की संरचना और इसकी अवधारणा पूरी दुनिया में समान है और धार्मिक समाज की कोई भी समस्या मस्जिद के बिना हल नहीं हो सकती है। दुर्भाग्य से, हमने मस्जिदों के निर्माण के लिए आवश्यक कदम नहीं उठाए हैं।

हुज्जतुल इस्लाम वल मुस्लेमीन तक़ी क़राअती ने कहा: मस्जिद ही समाज में एकमात्र ऐसी जगह है जहां हर उम्र के लोग, जवान, बूढ़े, बच्चे सभी एक साथ बैठ सकते हैं और यह एकता कहीं और नहीं देखी जाती है।

उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि इस्लामी क्रांति की शुरुआत मस्जिद से हुई थी। उन्होंने कहा: मस्जिद के इमाम के पास मस्जिद चलाने और धर्म का प्रचार करने के लिए सभी आवश्यक कौशल होने चाहिए।

उन्होंने कहा: "चूंकि महिलाएं घर में शिक्षा और प्रशिक्षण का केंद्र हैं, इसलिए मस्जिद में महिलाओं की उपस्थिति पुरुषों की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण है।"

हुज्जतुल इस्लाम वल मुस्लेमीन क़राअती ने कहा: दुर्भाग्य से, आज कुछ लोग अनजाने में कहते हैं कि महिलाओं को मस्जिद में नहीं आना चाहिए, जबकि इमाम खुमैनी (र.अ.) ने स्पष्ट रूप से कहा था कि "मस्जिद का सवाब केवल पुरुषों तक ही सीमित नहीं हैं"।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
4 + 7 =