۲ خرداد ۱۴۰۱ |۲۱ شوال ۱۴۴۳ | May 23, 2022
مسلم

हौज़ा/ हिंदुस्तान के कर्नाटक शहर ओड्डपी में सरकारी कॉलेज के चार मुस्लिम छात्रा इस महीने के आरंभ से ही अपने कक्षा के बाहर अध्ययन कर रहे हैं क्योंकि उन्हें प्रिंसिपल द्वारा हिजाब पहनकर क्लास में आने की अनुमति नहीं है।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार , हिंदुस्तान के कर्नाटक के एक कॉलेज में प्रिंसिपल ने हिजाब पहनने वाली छात्रा को क्लास के बाहर बैठकर पढ़ने का हुक्म दे दिया, और यह मामला 2 हफ्ते से चल रहा है। लेकिन प्रिंसिपल का कहना है कि कॉलेज आने जाने के लिए तो हिजाब पहन सकती है लेकिन कॉलेज के अंदर और क्लास में हिजाब पहनकर आने की अनुमति नहीं है। क्लास में सब लड़कियां बराबर है, यदि कॉलेज में पढ़ना है तो हिजाब उतार कर पढ़ें वरना क्लास रूम के बाहर बैठकर अध्ययन करें, हमें कोई भी एतराज नहीं है जितनी भी मुस्लिम छात्रा हैं। वह कॉलेज छोड़ कर जा सकती है।


जानकारी के मुताबिक मामला राजकीय महिला पीयू कॉलेज का है. छह मुस्लिम छात्रों ने प्रिंसिपल पर क्लास में हिजाब नहीं पहनने देने का आरोप लगाया है. इसके अलावा, उन्हें उर्दू, अरबी या बीरी में बोलने की अनुमति नहीं है। प्रिंसिपल का कहना है कि छात्राएं कैंपस में हिजाब पहन सकती हैं, लेकिन क्लासरूम में नहीं.


छात्रों ने दावा किया कि उनके माता-पिता ने प्रिंसिपल रुद्र गौड़ा से भी संपर्क किया, लेकिन उन्होंने इस मुद्दे पर चर्चा करने से इनकार कर दिया। लड़कियों ने कहा कि पिछले तीन दिनों से उनकी उपस्थिति दर्ज नहीं की गई है और वे डरी हुई हैं। कॉलेज में उनकी उपस्थिति कम हो सकती है।


स्पष्ट है कि मामला ऐसे समय में आया है जब कर्नाटक सरकार धर्म-विरोधी विधेयक पेश करने पर जोर दे रही है.
मुख्यमंत्री बिस्वराज बोमई ने विधेयक को संवैधानिक और कानूनी घोषित किया है। उन्होंने कहा कि बिल का मकसद धर्मांतरण के खतरे को दूर करना है।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
5 + 11 =