۸ تیر ۱۴۰۱ |۲۹ ذیقعدهٔ ۱۴۴۳ | Jun 29, 2022
बहरैन

हौज़ा/हाल के दिनों में आलेखलीफा सरकार ने अपने नागरिकों के खिलाफ अपने अत्याचार में तेज़ी कर दिया हैं। बच्चे, जवान और बूढ़ें सभी इसकें अत्याचारों के शिकार हो रहें हैं। निर्दोष कैदियों को मौत की सज़ा दी जा रही है जबकि जेलों में बीमार कैदियों की गंभीर स्थिति पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार ,बहरैन,हाल के दिनों में आलेखलीफा सरकार ने अपने नागरिकों के खिलाफ अपने अत्याचार में तेज़ी कर दिया हैं। बच्चे, जवान और बूढ़ें सभी इसकें अत्याचारों के शिकार हो रहें हैं। निर्दोष कैदियों को मौत की सज़ा दी जा रही है जबकि जेलों में बीमार कैदियों की गंभीर स्थिति पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।


बहरैन के शहर "सतरा" शहर के अलखरजिया कस्बे में एक हफ्ते से जांच चल रही है,और पांच युवाओं (14 से 15 वर्ष की आयु) की गिरफ्तारी के लिए एक आदेश जारी किया गया है।इन युवकों का नाम यह हैं: मुहम्मद जाफर कुवैती उम्र 15 साल, मुंतज़िर जाफर कुवैती उम्र 14 साल, मुक्तदा जाफर कुवैती उम्र 15 साल, अहमद फाज़ील अहमद उम्र 15 साल ,और मुहम्मद अब्दुल ज़हेरा मंसूर उम्र 15 साल।
बहरैन की जेल में 500 लड़के हैं जिन्हें सरकार विरोधी प्रदर्शनों में भाग लेने के आरोप में जेल में डाल दिया गया है।


इस बीच जमिअतुल इस्लमी ने जाफर सुल्तान और सादिक समर नामक दो बहरैनी कैदियों को इलाज की सुविधा से वंचित कर दिया था.
इन कैदियों को उपचार न मिलने की सुविधा से वंचित रखा गया है, लेकिन उन्हें अपने रिश्तेदारों से भी नही मिलने नहीं दिया जा रहा हैं।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
1 + 3 =