۹ تیر ۱۴۰۱ |۳۰ ذیقعدهٔ ۱۴۴۳ | Jun 30, 2022
दिन की हदीस

हौज़ा/हज़रत रसूल अल्लाह स.ल.व.व. ने एक रिवायत में माहे शाबान के रोज़े को अपनी शिफाअत का सबब करार दिया हैं।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार , इस रिवायत को "बिहारूल अनवार" पुस्तक से लिया गया है। इस कथन का पाठ इस प्रकार है:


:قال رسول الله صلى ‏الله ‏عليه ‏و ‏آله وسلم

شَعبانُ شَهري و رَمَضانُ شَهرُ اللّه ِ فَمَن صامَ شَهري كُنتُ لَهُ شَفيعا يَومَ القِيامَةِ


हज़रत रसूल अल्लाह स.ल.व.व. ने फरमाया:


शाबान मेरा और रमज़ान खुदा का महीना हैं, जो भी मेरे महीने (शाबान) में रोज़ा रखेगा, तो मैं कयामत के दिन उसकी शिफाअत करूंगा
बिहरूल अनवार,भाग 97,पेंज 83

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
8 + 10 =