۲۲ مرداد ۱۴۰۱ |۱۵ محرم ۱۴۴۴ | Aug 13, 2022
रहबर

हौज़ा/इस्लामी गणराज्य ईरान के शीर्ष अधिकारियों ने मंगलवार 12 अप्रैल की शाम इस्लामी इंक़ेलाब के नेता इमाम ख़ामेनेई से मुलाक़ात की। इस अवसर पर इमाम ख़ामेनेई ने अपने संबोधन में कई बुनियादी विषयों पर रोशनी डाली,

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार ,इस्लामी गणराज्य ईरान के शीर्ष अधिकारियों ने मंगलवार 12 अप्रैल की शाम इस्लामी इंक़ेलाब के नेता इमाम ख़ामेनेई से मुलाक़ात की। इस अवसर पर इमाम ख़ामेनेई ने अपने संबोधन में कई बुनियादी विषयों पर रोशनी डाली,
सुप्रीम लीडर की स्पीच के कुछ महत्वपूर्ण बिंदुः
एटमी डील के विषय में अमरीकियों ने वादा ख़िलाफ़ी की और अब इसी वादा ख़िलाफ़ी में उलझ कर रह गए हैं। इत्तेफ़ाक़ से वह बंद गली में पहुंच गए हैं। जबकि इस्लामी गणराज्य इस तरह की स्थिति में नहीं उलझा।
परमाणु वार्ता का अमल बहुत अच्छे अंदाज़ में अंजाम पा रहा है। वार्ताकार टीम राष्ट्रपति और अन्य ओहदेदारों को सूचित करती रहती है, फ़ैसले होते हैं और अमल किया जाता है। वार्ताकार टीम ने दूसरे पक्ष की अनुचित मागों पर अब तक प्रतिरोध किया है और इंशाअल्लाह यही अंदाज़ जारी रहेगा।
हुकूमत के ओहदेदार अपने प्रोग्रामों के सिलसिले में एटमी वार्ता के नतीजे का इंतेज़ार न करें, अपना काम जारी रखें। यह न हो कि वार्ता का नतीजा सार्थक, पचास प्रतिशत सार्थक या नकारात्मक रहे तो आपके प्रोग्रामों में रुकावट पैदा हो जाए। आप अपना काम करते रहिए।
सऊदी साहेबान से एक बात वाक़ई नसीहत के तौर पर कहना है। जिस जंग के बारे में आपको यक़ीन है कि इस में फ़तह नहीं मिलने वाली उसे जारी रखने की क्या वजह है? कोई रास्ता तलाश कीजिए और इस जंग से ख़ुद को निजात दिलाइए।
फ़िलिस्तीन ज़िंदा है। अमरीका और उसके घटकों की नीतियों और इच्छा के विपरीत जिनकी कोशिश थी कि फ़िलिस्तीन भुला दिया जाए और दुनिया के अवाम भूल ही जाएं कि फ़िलिस्तीन नाम का कोई इलाक़ा और फ़िलिस्तीनी मिल्लत नाम की कोई क़ौम थी, फ़िलिस्तीन का मुद्दा दिन बदिन ज़्यादा उभरता जा रहा है।
आज 1948 में अवैध क़ब्ज़े में लिए गए इलाक़ों, उसी अवैध अधिकृत फ़िलिस्तीन के केन्द्र में फ़िलिस्तीनी नौजवान जाग चुके हैं और संघर्ष कर रहे हैं। यक़ीनन यह संघर्ष जारी रहेगा और अल्लाह के वादे के मुताबिक़ फ़तह फ़िलिस्तीनी क़ौम का मुक़द्दर बनेगी।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
2 + 14 =