۵ تیر ۱۴۰۱ |۲۶ ذیقعدهٔ ۱۴۴۳ | Jun 26, 2022
दिन की हदीस

हौज़ा/हज़रत इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम ने एक रिवायत में गुनाह से बड़े और खतरनाक अमल की ओर इशारा किया हैं।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी के अनुसार , इस रिवायत को "कश्फुल ग़ुम्मा" पुस्तक से लिया गया है। इस कथन का पाठ इस प्रकार है:

:قال الامام السجاد علیه السلام

اِيـّاكَ وَالاِْبْتـِهاجَ بالِذَّنْبِ، فاِنَّ الاِْبْتِهاجَ بِهِ اَعْظَمُ مِنْ ركُوُبِهِ


हज़रत इमाम सज्जाद अलैहिस्सलाम ने फरमाया:

जो गुनाह तुमने अंजाम दिया है,कहीं उस पर खुश ना होना क्योंकि उस गुनाह पर खुशी का इज़हार उस गुनाह से भी बड़ा अमल हैं।


कश्फुल ग़ुम्मा, भाग 2,पेंज 108

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
8 + 7 =