۲۸ مرداد ۱۴۰۱ |۲۱ محرم ۱۴۴۴ | Aug 19, 2022
ٰٰआयतुल्लाह वहीद खुरासानी

हौज़ा / हज़रत आयतुल्लाहिल उज़्मा वहीद खुरासानी ने इमाम रज़ा (अ.स.) के शुभ जन्म दिवस पर संबोधित करते हुए कहा कि इन दिनो मे कुछ ऐसा कार्य करें कि उनका मक़ाम पूरे संसार को मालूम हो जाए। जिस किसी ने भी ऐसा काम किया उसका इनाम इमाम (अ) के पास है।

हौज़ा न्यूज़ एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार हज़रत आयतुल्लाहिल उज़्मा वहीद खुरासानी ने हजरत इमाम रजा (अ) के शुभ जन्मदिवस के अवसर पर धार्मिक संगठनों के अधिकारियों के एक दल के साथ बैठक में कहाः इमाम रज़ा (अ.स.) की दरगाह की ज़ियारत शाय रुल लाह के कामिल और मुकम्मल एहया का मिसदाक है।

इमाम (अ) के जन्म का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा: "उनका जन्म सबसे महान और सबसे महत्वपूर्ण जन्मों में से एक है क्योंकि जब मजहबे जाफरी के प्रमुख हजरत इमाम जाफर सादिक (अ.स.) ने अपने बेटे मूसा (अ.स.) को देखा तो कहा: तुम्हारे सुल्ब में आलिम ए आले मुहम्मद है।

मरजा ए तक़लीद ने कहाः यदि आपको छठे इमाम (अ) की मारफत हासिल की जो लोग उनसे मिलना चाहते हैं, तो आप आठवें इमाम (अ) के मक़ाम को जानते हैं जिसे समझा और बयान नहीं किया जा सकता। उनकी ज़ियारत से बुद्धि चकित है। जो कोई भी उनकी जियारत करता है आइम्मा ए हुदा के जायरीन मे सबसे उंचा मकाम रखता है। जो व्यक्ति उनकी जियारत करेगा तो उसकी जियारत हजार मकबूल हज और उमराह के बराबर है।

उन्होंने आगे कहा: "इन दिनों में कुछ ऐसा करो कि उनका स्थान पूरी दुनिया को पता चले।" जो कोई भी ऐसा करता है, उसका इनाम खुद इमाम के पास है, एक इनाम जो अद्वितीय और असंख्य है।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि इस बैठक के अंत में, सैय्यद अल-शुहादा (अ) की महानता पर आधारित पुस्तक "मिस्बाह-उल-हुदा" का चौथा खंड भी अयातुल्ला वहीद खोरासानी को प्रस्तुत किया गया था।

لیبلز

تبصرہ ارسال

You are replying to: .
6 + 1 =